advantage of Banana. kele khane ke labh. - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Thursday, February 14, 2019

advantage of Banana. kele khane ke labh.

 advantage of Banana. kele khane ke labh.

हमारे देश में केला सदा से पूजनीय रहा है किसी भी धार्मिक अनुष्ठान में केले का प्रयोग अत्यंत आवश्यक होता है। केले के पत्ते और फल तो पूजन में अनिवार्य ही  होते  हैं। दीपावली और धार्मिक पूजन के समय  इसके तने को घर के द्वार पर लगाना पवित्र होता है। यह आकर्षक लगता है। हमारे देश में बड़े पैमाने पर इसकी खेती की जाती है। यह एक ऐसा पेड़ है जिसके फल, फूल, पत्ते और तना सभी उपयोगी है।
banana plant

केले का पेड़  -- 

पहली बात यह कि केला पेड़ नहीं होता क्‍योंकि उसके स्‍टेम में लकड़ी नहीं होती, बल्कि वह पत्‍तों से लिपटा हुआ होता है। इन पौधों की जिन्‍दगी तब तक होती है जब तक इन पर फल होते हैं। और फल देने के बाद इनकी जिन्‍दगी खत्म  हो जाती है।

     इस पेड़ का हर हिस्‍सा काम का होता है। इसकी पत्‍तियों को साउथ में खाना परोसने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसके फल और फूल, खाने के काम आते हैं और इसकी सूखी सामग्री को हैंडी क्राफ्ट बनाने में  प्रयोग किया जाता है।

 केले के पौधा कैसे लगाए 

1.  साइज़ का गड्ढा करवाये - 

केले के पौधे को कम से कम 30 से.मी. चौड़ा और 30 से.मी. गहरा गड्ढा चाहिए होता है। बड़े गड्ढों को तेज़ हवाओं वाले क्षेत्रों में प्रयोग करना चाहिए। प्लांटिंग साइट पर जो भी पौधे या वीड्स उगे हुए हैं उन्हें हटा दें.  फिर 1फ़िट x 1 फिट साइज़ का गड्ढा खोदकर उसमें कंद  सहित पौधे को लगाए।  बड़ा गड्ढा पौधे को अधिक सहारा देगा, लेकिन अधिक मिट्टी की आवश्यकता होगी। अगर इनडोर लगा रहे हैं तो थोड़ा बड़ा पॉट इस्तेमाल करें।
kele ka paudha

2. केले की सिंचाई -- 

केले के पौधे को बहुत पानी लगता है। बार बार पानी डालिए लेकिन अधिक पानी देने से बचें। कम पानी केले के पौधे की मौत का एक सामान्य कारण है, लेकिन अधिक पानी से जड़ें सड़ सकती हैं। गर्मी के मौसम में, आपको अपने पौधे में रोज़ पानी देना पड़ सकता है, लेकिन तभी जब मिट्टी ऊपर आधा -एक इंच सूखी लगे। 



3. उर्वरक का प्रयोग  - 

केले के पौधे को नाइट्रोजन और पोटेसियम युक्त उर्वरक की जरूरत होती है। इनकी कमी से पत्तियां पीली पड़ने लगती हैं।पौधे के चारों ओर गोल घेरा बनाकर उसमे उर्वरक डाल दें फिर घेरे में पानी दें जिससे उर्वरक  मिट्टी में मिल जाय।

4.  देखरेख कैसे करें - 

 एक बार आपका पौधा पूर्ण विकसित हो जाता है, फिर उसके साथ कुछ नए पौधे निकलने लगते हैं।  उनमें से  सभी  को हटाकर एक सहायक पौधे को रहने दीजिये ताकि मुख्य पौधे में अच्छे फल आयें और पौधा स्वस्थ रहें। मुख्य पौधे के साथ बचा हुआ पौधा बाद में  मुख्य पौधे की जगह ले लेगा।
kele ka fruit aur paudha

 केले  खाने के लाभ -

हम सभी को केला खाना पसंद होता है। उसमें मौजूद प्राकृतिक मिठास सभी को पसंद होती है। अधिकतर लोग जो खेल से जुड़े होते है या जिम करते है वे लोग  ज्यादातर  केले का ही सेवन करते है।  रोजाना दो केले खाने से कुछ ही समय बाद कमजोर व्यक्ति का वजन काफी बढ़ जाता है और यह दुबलेपन को दूर कर देता है।

     केले को भरपूर ऊर्जा प्रदान करने वाला फल माना जाता है।  अगर आपको भी फिट और हेल्थी बॉडी पानी है तो केले के बहुमूल्य फायदों को जरुर जान लेना चाहिए। डॉक्टर की सलाह मानें तो इसे    डायबिटीज़ वालों को खाने के लिए मना किया जाता है। केला एक पूर्ण आहार है, कच्चे केले से सब्जी के अलावा स्वादिस्ट कटलेट आदि बनाये जा सकते हैं।  यह अनेक बिमारियों में भी उपयोगी है :-


1. दिल के लिए

 दिल के मरीजों के लिए केला बहुत फायदेमंद होता है। हर रोज दो केले को शहद में डालकर खाने से दिल मजबूत होता है और दिल की बीमारियां नहीं होती हैं। केले में आयरन भरपूर मात्रा में होता है इसलिए हीमोग्लोबिन की कमी को दूर करता है। केले में पोटेशियम पाया जाता है जो ब्लड प्रेशर के मरीज के लिए फायदेमंद है।


2. डिप्रेशन से राहत -- 

कई रिसर्च से साफ हुआ है कि केले का सेवन डिप्रेशन के रोगियों को आराम देता है. केले में ऐसा प्रोटीन पाया जाता है, जो आपको रिलेक्स फील कराता है। यही कारण है कि डिप्रेशन का मरीज जब भी केले का सेवन करता है तो उसे राहत मिलती है. इसके अलावा केले में पाया जाने वाला विटामिन बी 6 शरीर में ब्लड ग्लूकोज के लेवल को ठीक रखता है। 
yellow banana





3. पेट की समस्याओं के लिए -

केले में काफी मात्रा में फाइबर पाया जाता है, इसका शेक पेट को ठंडक पहुंचाने के साथ शरीर को शक्ति प्रदान करता है। आंत के रोगियों के लिए यह अत्यंत लाभकारी है। केला पाचन क्रिया को सुचारू करके  कब्ज की परेशानी से राहत देता है। 

     आज अधिकतर बीमारियाँ हमारी पेट से जुडी होती है। अगर आपका पेट ठीक है तो आप कभी बीमार नहीं हो सकते। पेट का ठीक होना आपको स्वस्थ बनाता है।  केला खाना हमारे पाचन को बेहतर बनाता है. केला खाने में बहुत ही आसान होता है और पचने में और भी ज्यादा आसान। यह हमारे पेट से सम्बन्धी कई विकारों को दूर करता है और गैस व अपच की समस्या का निदान करता है। 

    आप इस्बगोल की भूसी या दूध के साथ केले का सेवन प्रतिदिन रात में सोते समय करें। ऐसा करने पर आपको पेट में होने वाली कब्ज और गैस की समस्या से राहत मिलेगी। यदि आपके घर में किसी को दस्त लग गए हैं तो पके केले को फेंटकर मक्खन की तरह बना लें।  अब इसमें कुछ दानें मिश्री के मिलाकर दिन में दो से तीन बार लें। ऐसा करने से लूज मोशन की समस्या में आराम मिलेगा . 

 also read - 

 1. anar ka paudha kaise lgaye. anar ke faayde.

      2. dalchini ek fayde anek


    4. स्त्री रोगों में -- 

    महिलाओं के प्रदर रोग में  केला और दूध की खीर प्रतिदिन खाएं या भोजन करने के बाद दो केला का सेवन नियमित करने से प्रदर रोग में आराम मिलता है। इसके अलावा प्रदर रोग में राहत के लिए केला खाने के बाद दूध में शहद  घोलकर पीने से भी लाभ मिलता है। 

    5. बच्चों के लिए --

    केले में कैल्शियम भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो बच्चों की हाइट बढ़ाने में सहायक होता है. बढ़ती उम्र के बच्चों को इसका भरपूर सेवन करना चाहिए।जिन बुजुर्गों को हड्डी संबंधी शिकायत है वे भी इसका प्रयोग करें।प्रतिदिन केला और दूध का सेवन करने से व्यक्ति कुछ ही दिनों में तंदरुस्त  हो जाता है और उसका  शरीर हष्ट-पुष्ट हो जाता है। 

    इस तरह विभिन्न तरीकों से केले का प्रयोग किया जा सकता है। आप भी केले का पेड़ लगाएं और इसके गुणों का लाभ लें। यहां प्रदर्शित किए गए सभी फोटो मेरे फार्महाउस के हैं।

    आशा है ये पोस्ट "advantage of Banana. kele khane ke labh" आपको उपयोगी लगी होगी। इसे शेयर करने के साथ अपने विचार और सवालों से हमे कमेंट द्वारा अवगत करवाए। ऐसी जानकारी भरी पोस्ट के लिए इस वेबसाइट में विजिट करते रहें

    also read -

    1. how to be happy

    2. medical insurance for family

    1 comment:

    Post Bottom Ad