5 Health Benefits of Red Rice-लाल चावल के 5 अद्भुत फायदे - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Saturday, February 29, 2020

5 Health Benefits of Red Rice-लाल चावल के 5 अद्भुत फायदे

5 Health Benefits of Red Rice-लाल चावल के 5अद्भुत फायदे 

विश्व में उगाई जाने वाली फसलों में चावल (Rice) को द्वितीय स्थान प्राप्त है और इसका उपयोग दुनिया के अधिकतर लोगों द्वारा किया जाता है। Rice की 40 हजार से ज्यादा किस्में पाई जाती हैं। दुनिया के चावल उत्पादन का करीब 20% चावल भारत में होता है। भारत में चावल भोजन का आवश्यक अंग है, दक्षिण भारत के साथ  छत्तीसगढ़ और उड़ीसा में यह मुख्य भोजन के रूप में प्रयोग होता है। यहां चावल के आटे से रोटी और विभिन्न प्रकार के व्यंजन भी बनाये जाते हैं।

red- rice

    अधिकतर लोग सफ़ेद चावल से परिचित हैं और इसी का उपयोग करते हैं परन्तु भारत मे लाल, बैंगनी, काले, भूरे व हरे चावलों का उत्पादन भी होता है। लाल चावल (Red Rice) पौष्टिकता के दृष्टिकोण से सबसे बेहतर पाया गया है। चरक संहिता में लाल चावल को रोग प्रतिरोधक व पौष्टिक बताया गया है। इसकी खेती भारत में पहाड़ी राज्यो के अलावा झारखंड, तमिलनाडु, केरल व बिहार में की जाती है।  इस चावल की राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बाजार में बढ़ती मांग को देखते हुए छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में भी इसकी व्यवसायिक खेती होने लगी है। 

सफ़ेद चावल की जगह क्यों खाएं लाल चावल 

सफेद चावल (white rice)


सफेद चावल (white rice) का सर्वाधिक उपयोग किया जाता है परन्तु स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से ये ठीक नहीं समझे जाते। राइस मिल में चावलों को सफ़ेद करने लिए इसकी ऊपरी परत हटा दी जाती है। यह ऊपरी परत या चोकर, सेहत के लिए काफी फायदेमंद होती है। एक्सपर्ट के अनुसार इसमें फाइबर के साथ बहुत से पोषक तत्व और जरूरी फैट आदि भी होते हैं
cooked-white-rice

    चावल को अत्यधिक सफ़ेद दिखाने के लिए की जाने वाली पॉलिश की प्रक्रिया के दौरान थियामिन और विटामिन-B कम हो जाते हैं। इसकी कमी से बेरीबेरी नामक रोग होने की संभावना बनी रहती है।  चावल पर की गई पॉलिश विटामिन बी-3 को 67%, बी-1 को 80%, बी-6 को 90%, मैग्नीशियम और फॉस्फोरस को 50% और आयरन का 60% भाग समाप्त कर देती है। 

    इस तरह से प्रोसेस्ड किये गए सफेद चावल में मुख्यतः स्टार्च ही बचा रहता है।  यही कारण है कि कई बार डॉक्टर इसके नुकसान को देखते हुए डायबीटिज़, मोटापा और कई बीमारियों से बचने के लिए सफेद चावल के उपयोग से दूर रहने की सलाह देते हैं। 
red-rice



ब्राउन और रेड चावल (Brown Rice and Red Rice) -

जब हम पोषक तत्वों की बात करते हैं, तो ब्राउन और रेड चावल में कोई विभिन्नता नजर नहीं आती। दोनों ही फाइबर, विटामिन बी, कैल्शियम, जिंक, आयरन, मैग्नीशियम, सैलीनियम और अन्य पोषक तत्वों के अच्छे स्रोत हैं। ब्राउन राइस की तुलना में रेड राइस में ज्यादा एंटी-ऑक्सीडेंट होते हैं, जो कि शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। 


    ब्राउन और रेड राइस की प्रोसेसिंग के दौरान उसके चोकर (bran) को नहीं निकला जाता है क्योंकि इनमें ही थायमीन (विटामिन B-1), कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, प्रोटीन और फाइबर होता है।इन पोषक तत्वों की उपस्थिति के कारण ब्राउन और रेड राइस (Brown Rice and Red Riceहेल्दी होते हैं। 

    परन्तु चावल की इन दोनों किस्मों में एक अंतर यह है कि रेड राइस में एंथोसायनिन नामक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है जिसके कारण ही इस चावल का रंग लाल होता है और यह ब्राउन राइस में पाये जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट की तुलना में दस गुना ज्यादा असरदार है। लाल चावल में पाए जाने वाला विटामिन B-6 लाल रक्त कणिकाओं को बनाने और सेरोटोनिन निर्माण को संतुलित करने में सहायक है। इस लेख को पढ़कर आप जान सकेंगे कि लाल चावल के स्वास्थ्य लाभ कितने अविश्वसनीय हैं।
red-rice



रेड राइस के फायदे (Benefits of Red Rice) 



1. वजन घटाने में उपयोगी  (Red Rice For Weight Loss) -

रेड राइस में फाइबर की मात्रा ज्यादा होती हैं जो कि पाचन तंत्र लिए फायदेमंद है और इससे कब्ज़ की समस्या दूर हो जाती है। यह आपको मोटापे से बचाता है क्योंकि इसे खाने के बाद पेट देर तक भरा हुआ रहता है जिससे आप ज़रूरत से ज्यादा नहीं खा पाते हैं। जब वजन घटाने की बात आती है तो घी, मक्खन के साथ चावल भी खाने से हटा दिया जाता है।परन्तु  फिट दिखने और वजन घटाने में रेड राइस का सेवन  उपयोगी है।
weight-loss



2.  डायबिटीज से बचाव -

एक्सपर्ट की मानें तो रेड चावल डायबीटिज़ से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद होते हैं। इस चावल का लाल रंग इसमें पाए जाने वाले भरपूर लौह तत्व की वजह से होता है।  यह चावल शरीर में इन्सुलिन और ब्लड शुगर को संतुलित करता है। इनके सेवन से टाइप-2 डायबिटीज से बचाव होता है।

    इसमें उपस्थित फाइबर, ब्लड शुगर में बदली कार्ब को भी धीरे-धीरे कम कर देता है क्योंकि फाइबर युक्त खाना लो-ग्लाइसेमिक होता है। हाल ही में हुई स्टडी के अनुसार रोज अपने भोजन में 1 कप रेड राइस शामिल करने से डायबीटीज़ का रिस्क 60% कम हो जाता है।
diabetes



3.  हार्ट के मरीजों के लिए फायदेमंद -

एंटीऑक्सीडेंट क्षमताओं के कारण इसके सेवन से कार्डियोवैस्कुलर बीमारियों से बचाव होता है। शोध से इस बात की पुष्टि हो चुकी है कि रेड राइस खाने से शरीर में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होती है, यह हार्ट के मरीजों के मरीजों के लिए यह लाभदायक  है। इनकी एंटी-इंफ्लेमेटरी क्षमताओं के कारण यह काफी फायदेमंद होते हैं। इनमें विटामिन 6 मौजूद होता है जो सेरोटोनिन, रेड ब्लड सेल्स और डीएनए कोशिकाओं को बनने और उनके विकास में मदद करता है।

    इसमें मौजूद मैगनीज,  मैटाबॉलिज्म को मजबूत बनाने के साथ-साथ हार्ट अटैक के खतरे को घटाने में मदद करता है। यह चावल आर्टीरिअल प्लाक को कम करने, हृदय संबंधित परेशानी और हाई कोलेस्ट्रोल कंट्रोल करने में मदद करते हैं। दिल और हाई ब्लड प्रेशर वाले मरीज इसकी विषेशताओं के कारण अपने दैनिक भोजन में रेड राइस को शामिल करना पसंद करते हैं। 
red-chanwl

4. कैंसर के खतरे को कम करता है -


रेड चावल में एंटी-ऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में होता है, जिसे एंथोसाइएनिन्स भी कहते हैं। यह एंथोसाइएनिन्स गहरे बैंगनी और लाल रंग के फलों और सब्जियों में पाए जाते हैं। यह शरीर में होने वाली जलन, एलर्जी व कैंसर के खतरे को कम करने में मदद करता है। यही नहीं, लाल चावलों में मौजूद सैलीनियम बॉडी में होने वाले इंफेक्शन से बचाता है। 


5. त्वचा के लिए अच्छा है -

आपकी चेहरे की झुर्रियों को रोकने का काम सिर्फ खट्टे फल नहीं करते, जिनमें महत्वपूर्ण एंटीऑक्सीडेंट होते हैं यह काम लाल चावल भी करता है। अनुसंधान से पता चला है कि लाल चावल में पाए जाने वाले तत्व, त्वचा की उम्र बढ़ने और यूवी-प्रेरित त्वचा क्षति को रोककर, उम्र बढ़ने के संकेतों में देरी कर सकते हैं। एंथोसायनिन से समृद्ध भोजन खाने से त्वचा कैंसर और अन्य त्वचा रोग जैसे कि सोरायसिस को रोकने में मदद मिलती है। 

also read -

1. Chai pine ke nuksan- चाय पीने नुकसान 

2. Crorepati kaise bne- करोड़पति बनने के सफल टिप्स

3. Amarkantak tour guide-अमरकंटक के दर्शनीय स्थल 



beautiful-girl


   इसमें मौजूद मैग्नीशियम और कैल्शियम हड्डियों और दांतों को मजबूत करने, ऑस्टियोपरोसिस, गठिया जैसे रोगों को ठीक करने में सहायक होते हैं। इससे पता चलता है कि लाल चावल अपने समकक्ष सफेद चावल की तुलना में बेहतर विकल्प है क्योंकि यह आपको न सिर्फ स्वस्थ बनाता है बल्कि यह आपके युवा रूप को भी देर तक बनाए रखता है। 


लाल चावल को कैसे पकाएं -

सफ़ेद चावल की तुलना में इन्हें पकाने में समय अधिक लगता है इसलिए पकाने से पहले लाल चावल को  1 घंटे तक पानी में भिगोकर रख सकते हैं। पकाने के लिए इसमें चांवल और पानी का अनुपात 1:3 का रखें यानि 1 कप चावल के लिए 3 कप पानी का उपयोग करें, इसमें थोड़ा नमक भी डाल सकते हैं। सफ़ेद चावल की तरह लाल चावल से भी खीर, खिचड़ी, डोसा  जैसे स्वादिष्ट एवं पौष्टिक व्यंजन बनाये जा सकते हैं। 


Conclusion -

अब जब आपने लाल चावल के स्वास्थ्य लाभों के बारे में पढ़ा है और आपको पता लगा है कि यह सुपरफूड आपके और आपके परिवार के लिए कितना अद्भुत हो सकता है, तो क्या आप लाल चावल आज़माना चाहेंगे? लाल चावल आपके स्थानीय स्टोर और ऑनलाइन भी मिल सकते हैं। यदि आपको लाल चावल मिलने में परेशानी हो तो हमें कमेंट बॉक्स में अपने मोबाइल नंबर के साथ लिखें। जिससे आप आर्गेनिक तरीके से रेड राइस की फसल लेने वाले बस्तर क्षेत्र के कृषक से रेड राइस मंगवा सकेंगे। 

     आशा है ये आर्टिकल "5 Health Benefits of Red Rice-लाल चावल के 5 अद्भुत फायदे" आपको पसंद आया होगा। इसे अपने परिवार एवं मित्रों से शेयर करें, जिससे वे भी रेड राइस के गुणों को जान सकेंगे। ऐसी ही स्वास्थ्य संबंधी और भी उपयोगी जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विजिट करते रहें। 

also read -

1. Home remedies for high BP-बीपी ठीक करें -बिना दवा के 

2. How to lose weight fast-मोटापा तेजी से कैसे घटाएं

3. Vastu for plots-वास्तु अनुकूल प्लाट में निवेश करके सुख समृद्धि पाएं 




No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad