Best Trading Strategy- शेयर ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाएं - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Saturday, February 8, 2020

Best Trading Strategy- शेयर ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाएं

Best Trading Strategy- शेयर ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाएं 

अधिकतर लोगों की सोच है कि शेयर मार्केट में ट्रेडिंग से पैसे बनाना असम्भव है परन्तु ऐसा नहीं है। जिन्हें मार्केट की अच्छी समझ है और जो लोग अपनी स्ट्रेटेजी का सख्ती से पालन करने के साथ अपने इमोशंस पर कण्ट्रोल करते हुए ट्रेड करना जानते हैं, वे शेयर मार्केट में ट्रेडिंग से भी पैसे बनाने में कामयाब हैं। वहीं जो लोग जोश में आकर बिना समझ के ट्रेडिंग में उतरते हैं, यह मार्केट उनके पैसे छीनकर उन्हें बर्बाद कर देता है। इस प्रकार से पैसे गंवाने वाले लोगों की संख्या भी कम नहीं है।

indian-currency


       शेयर मार्केट से जुड़े लोगों का उद्देश्य शेयर में निवेश करके या ट्रेडिंग के जरिये पैसा कमाने का होता है। एक तरफ शेयर बाज़ार कुछ लोगों को बहुत लुभावना लगता है। ऐसे लोग इसका एनालिसिस करने में लगे रहते हैं और उनके दिमाग में इसके अप्स एंड डाउन के चार्ट घूमते रहते हैं। वहीं  देश की बड़ी आबादी ऐसी भी है, जिसके लिए शेयर मार्केट कोई मायने नहीं रखता क्योंकि उन्हें इस मार्केट की समझ ही नहीं है। 


    बहुत से लोगों की निगाह में शेयर मार्केट से पैसे कमाने का जरिया केवल शेयर्स में निवेश करना ही होता है। किसी कंपनी के शेयर लेकर निवेशक बनना आसान तो है परन्तु इस तरीके से पैसे कमाने के लिए लम्बे समय तक निवेशित रहना पड़ सकता है इसके लिए बड़े सब्र की जरूरत होती है। साथ ही इस दौरान शेयर में आने वाली गिरावटों को देखकर अविचलित बने रहना पड़ता है, क्योंकि उतार चढ़ाव होना शेयर मार्केट की स्वाभाविक प्रक्रिया है। 


    यहाँ पैसा कमाने का दूसरा तरीका है- डेली बेसिस पर शेयर खरीदने और बेचने का, जिसे इंट्राडे ट्रेडिंग कहते हैं। इसमें दिन भर में बहुत से ट्रांज़ैक्शन भी हो सकते हैं, यहां मार्केट के उतार-चढ़ाव पर प्रतिपल निगाह रखना होता है और किसी शेयर पर 1-2 प्रतिशत का फायदा होने पर पोजीशन काट दी जाती है। इंट्राडे ट्रेडिंग में अधिकतर बहुत कुशल और अनुभवी ट्रेडर ही पैसे कमा पाते हैं क्योंकि इसमें सौदा लेने और काटने का समय उस दिन ट्रेडिंग बंद होने तक ही होता है। यहां बहुत फ़ास्ट निर्णय लेने की जरूरत होती है। इसलिए नए ट्रेडर इसमें घाटा उठाते हैं।
chart


   ट्रेडिंग से प्रॉफिट कमाने के लिए यहां एक फार्मूला बताया गया है जिसे डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग या शार्ट टर्म ट्रेडिंग कह सकते हैं। इसमें शेयर लेकर कुछ दिनों तक या कुछ सप्ताह तक होल्ड करना होता है। इस तरीके में इंट्राडे ट्रेडिंग की तरह रिस्क नहीं होता और सफलता के चान्सेस बहुत बढ़ जाते हैं। आइये जानते हैं इस तरीके से पैसे कैसे कमाएं जा सकते हैं। 


शेयर ट्रेडिंग से पैसे कमाने का तरीका (Best Trading Strategy) -


1. निफ़्टी -50 के शेयर्स का चुनाव करें -


इस फॉर्मूले की सफलता के लिए ब्लू चिप कंपनियों या निफ़्टी -50 में शामिल स्टॉक्स का ही चुनाव करें, क्योंकि इनमें उतार चढ़ाव ज्यादातर लिमिटेड होता है। स्माल कैप या पैनी स्टॉक्स में यह फार्मूला लगाने पर रिस्क बहुत बढ़ जायेगा, क्योंकि इनमें बहुत तेज़ उतार चढ़ाव होने की संभावना हमेशा बनी रहती है। जिस स्टॉक का चुनाव उसके शेयर्स खरीदने के लिए करें उसका पिछले कुछ सप्ताह में अपने बनाये लो के पास होना जरूरी है। 

     दूसरी कंडीशन है कि आपको मनी मैनेजमेंट इस प्रकार से करना है कि यदि स्टॉक यहां से 10 -12 % और भी गिरता है तो इस बीच 2 बार और खरीदी कर सकें। पहली बार में जितने शेयर्स खरीदें गए हों, दूसरी और तीसरी बार खरीदते समय भी उनकी संख्या कम नहीं होनी चाहिए। प्लानिंग इस प्रकार से करें कि बाद में खरीदे जाने वाले शेयर्स की क्वांटिटी पहले की तुलना में अधिक ही हो। 


2. गिरावट के पीछे बड़े कारण न हों -

जिस किसी शेयर का चुनाव करें उसका फंडामेंटल बहुत मजबूत होना चाहिए। साथ ही उसकी हाल में हुई गिरावट के पीछे मैनेजमेंट में बड़ा बदलाव, कोई घोटाला या स्कैम इत्यादि बड़े कारण नहीं होना चाहिए। इन कारणों से गिरे हुए शेयर के रेट को ऊपर आने में बहुत समय लग सकता है इसलिए इस प्रकार के स्टॉक्स का चुनाव करने से बचें। अन्यथा आपकी buying price से ऊपर का रेट आने में लम्बा समय लग सकता है। 
support-resistance-chart

3. मार्केट की दिशा का ध्यान रखें -

जब आप buying करके काम कर रहें हों तो ओवरआल मार्केट का मूड अप साइड में ही होना चाहिए। अगर मार्केट ऊपर जाने की बजाय नीचे का रुख अधिक दिखा रहा हो तो buy करने की जगह sell (सेल) करके काम करें। स्टॉक्स में सेल पोजीशन होल्ड करने के लिए futures में जाकर सेल पोजीशन बनानी होगी। इसके लिए अधिक कैपिटल की जरूरत पड़ेगी क्योंकि इसमें लॉट साइज़ के आधार पर पैसे लगेंगे। 

also read -
Investment in Property-प्रॉपर्टी में निवेश 

4. शेयर की रेंज को पकड़ें -

कोई भी स्टॉक लगातार लम्बे समय तक किसी एक दिशा में नहीं चलता। ज्यादातर वह एक रेंज में रहता है। जब किसी स्टॉक को आगे भी जाना होता है तो ऊपर की तरफ नया हाई का दायरा बनाता है, फिर नीचे आता है। परन्तु पहले बनाये हुए लो को नहीं काटता और इस नई रेंज में कुछ समय बिताता है। जिस शेयर में ट्रेड करना चाहते हैं उसकी रेंज को चार्ट में देखना होगा। आपको शेयर तभी buy करना है जब वह अपने  पिछले कुछ सप्ताहों की निचली रेंज (लो) के करीब हो और वहां सपोर्ट लेता दिखें। 

    इसके लिए आपको उस शेयर का पिछले 6 से 8 महीने का डेली और वीकली चार्ट देखना होगा। चार्ट देखते समय शेयर के प्राइस पैटर्न को देखें। मान लीजिये किसी शेयर ने 255/- का लो बनाने के 2 महीने बाद 310/- का हाई लगाया फिर उसके 1 महीने के भीतर वह फिर से 255/- के आसपास आता है और यह पैटर्न आपको उसके बाद के महीनों में भी दिखता है तो फिर से 255/- तक या उसके आसपास आने पर उसे खरीद सकते हैं।
best-trading-strategy

5. कैपिटल बचाकर रखें -

अब हो सकता है वह अपने पुराने लो 255/- तक नीचे आने की बजाय 260/- या 262/- में आकर रुक जाए। तब भी आप उसे खरीद सकते हैं परन्तु आपको अपनी कैपिटल का 30% ही शेयर खरीदने में लगाना है। शेष 70% रकम आगे लगाने के लिए सुरक्षित रखना है। 



     मान लीजिये आपने 260/- के रेट से वो शेयर खरीदा। अब अगर वो वहीं से आगे की चाल पकड़ता है तो उसके 5-7% बढ़ने पर अपने आधे शेयर बेच कर मुनाफा बुक करें और बचे हुए आधे शेयर 10% बढ़ने पर या जब प्राइस रिवर्सल दिखे तब बेच सकते हैं। इस केस में कोई प्रॉब्लम नहीं है क्योंकि आप मुनाफा कमा रहे हैं। 

     अब यदि शेयर के रेट बढ़ने की बजाय घटने लगते हैं, तब क्या करें?  मान लीजिये आपके 260/- के रेट में खरीदने के बाद वो शेयर नीचे गिरने लगता है और अपना 2 महीने पुराना लो तोड़कर 247/- तक आ जाता है। इस पोजीशन में आपको करना ये है कि अपनी बची हुई कैपिटल में से 30% लगाकर उस शेयर को और खरीदना है। 


6.  प्रॉफिट बुक करते रहें -

चूँकि मार्केट लगातार एक दिशा में नहीं चलता इसलिए जब आप 247/- में शेयर खरीदी करेंगे तो वह कुछ न कुछ ऊपर की तरफ भी चलेगा।क्योंकि जब आपने उसे खरीदा था तब वो अपने हाई से पहले ही बहुत नीचे आ चुका था। अब मान लीजिये वह 255/- तक भी जाता है तो 247/- में जितने शेयर खरीदे थे उन्हें बेचकर मुनाफा बुक करें और इसी रेंज में ट्रेडिंग करते रहें। यानि 247/- के पास आने पर खरीदें और कुछ प्रॉफिट मिलने पर बेंच दें। 

      अभी 260/- वाले शेयर होल्ड रखें जब शेयर का भाव 260/- के ऊपर चला जाए तो सुविधा के अनुसार उन्हें भी बेचकर मुनाफा बुक कर सकते हैं। यहां एक कंडीशन और हो सकती है जिसमें 247/- से 255/- के बीच कुछ समय बिताने के बाद शेयर 260/- की तरफ न जाकर नीचे सरकते हुए 235/- तक चला जाए। 

     ऐसा होने पर अपने बचे हुए कैपिटल को लगाकर और एक बार शेयर खरीदें। 235/-  में खरीदे हुए शेयर्स में ट्रेड करें। यानि रेट 240/- के आसपास आने पर सेल कर दें, फिर रेट वापस नीचे आने पर buy कर लें। ऊपर के रेट 247/- या 260/- में खरीदे हुए शेयर्स होल्ड रखें। 

also read -


1. mistakes in intraday trading-शेयर मार्केट में डे ट्रेडर की गलतियां 

2. Best investment options- सर्वश्रेष्ठ निवेश विकल्प 

3. Technical analysis in share market-टेक्निकल एनालिसिस क्या है 
best-trading-strategy

 7. कमोडिटी ट्रेडिंग में भी उपयोगी - 



यह फार्मूला कमोडिटी ट्रेडिंग में भी समान रूप से उपयोगी है और बहुत अच्छी तरह काम करता है। इस तरीके से क्रूड, कॉपर, निकल में खरीदी करके ट्रेड कर सकते हैं। कमोडिटी में बड़ी लॉट साइज़ के साथ छोटी लॉट साइज़ भी उपलब्ध होने से अपेक्षाकृत कम पूँजी से भी ट्रेड किया सकता है।

conclusion -

इस डिलीवरी बेस्ड ट्रेडिंग फॉर्मूले के आधार पर ट्रेड करने पर आपकी सफलता की दर 90% तक हो सकती है। सिर्फ एक ही कंडीशन में फेल हो सकते हैं जब आपका चुना हुआ शेयर लगातार गिरता ही जाए। सामान्यतः निफ़्टी -50 के शेयर लगातार 25% गिरें ऐसा कम ही होता है। यदि किसी कारण से गिरता भी है तो इस दौरान आपको बीच में ट्रेडिंग के भरपूर मौके जरूर मिलते हैं। इसका लाभ उठाते हुए नीचे के रेट में खरीदे हुए शेयर्स में ट्रेडिंग करते रहें। 

      यहां पर यह सोच न रखें कि मेरे पहले खरीदे हुए शेयर्स के रेट और नीचे रेट में खरीद के एवरेज से ऊपर का रेट आने पर सभी शेयर्स एक साथ बेचूंगा। यह सोच आपके लिए नुकसान दायक हो सकती है। शेयर बाज़ार में अचानक कुछ भी होना सम्भव है इसलिए पहले कम क्वांटिटी में शेयर खरीद कर पूरी प्लानिंग के साथ इस फॉर्मूले को अपनाएँ फिर समझ आने और सफल होने पर क्वांटिटी बढ़ा सकते हैं। 

     आशा है ये आर्टिकल "Best Trading Strategy- शेयर ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाएं " आपको उपयोगी लगा होगा इसे अपने मित्रों तक शेयर कर सकते हैं। अपने सवाल और सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखें। शेयर बाज़ार की ऐसी ही और भी उपयोगी जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विज़िट करते रहें। 

also read -

1. Share market me intraday trading kaise kren

2. Breakfast Business- नाश्ते के बिज़नेस से लाखों कमाएं 

3. Money management in share trading-शेयर ट्रेडिंग में मनी   मैनेजमेंट कैसे करें 




No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad