Coronavirus Symptoms- कोरोनावायरस के लक्षण और बचाव - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Wednesday, March 4, 2020

Coronavirus Symptoms- कोरोनावायरस के लक्षण और बचाव

Coronavirus Symptoms- कोरोनावायरस के लक्षण और बचाव 

चीन के वुहान शहर से शुरू हुआ कोरोनावायरस (coronavirus) का आतंक अब विश्व के 77 देशों में फ़ैल चुका है। चीन में इसने हाहाकार मचा रखा है। इसके कारण वहां 2945 से ज्यादा लोगों की जान जा चुकी है। 3 मार्च तक दुनियाभर में इसने अनुमानित 92262 लोगों को संक्रमित किया है, जिसमें 3131 मौतें हुई हैं और 48438 लोग ठीक हो चुके हैं।  W H O  के अनुसार - यह "एक बीमारी का विश्वव्यापी प्रसार" है। चीन के बाहर वायरस का प्रसार चिंताजनक है, लेकिन अप्रत्याशित विकास नहीं है। डब्ल्यूएचओ ने प्रकोप को अंतरराष्ट्रीय चिंता का सार्वजनिक स्वास्थ्य आपातकाल घोषित कर दिया है।

virus

  विषेशज्ञों के अनुसार यह कोरोनोवायरस एक नए प्रकार का है,  जो पहले कभी नहीं देखा गया। शुरू में संक्रमित लोगों में से कई ने चीनी शहर  वुहान के सीफूड होलसेल मार्केट में या तो काम किया या अक्सर खरीदारी की। अब यह  दुनिया भर में फैल रहा है। इटली में 2039 संक्रमित और 52 मौतें दर्ज की गई हैं, जबकि दक्षिण कोरिया में 5186 से अधिक मामले और 28 मौतें दर्ज की गई हैं। हांगकांग, ताइवान, फ्रांस, जापान और फिलीपींस में भी मौतें हुई हैं। अमेरिका में अब तक 103 मामले में 6 मौतें हुई हैं।बुरी तरह से प्रभावित ईरान में 2336 मामले हैं, जिसमें 77  मौतें हो चुकी हैं। 

  अब तो इस वायरस ने भारत में भी दस्तक दे दी है।  इसके कहर को  देखते हुए सरकार ने पैरासिटामाल, विटामिन B-1 और B-12 समेत 26 दवाओं के निर्यात पर कुछ पाबंदियां लगा दी हैं। अब 26 दवाओं के निर्यात के लिए विदेश व्यापार महानिदेशक (DGFT) से लाइसेंस लेने की जरूरत होगी और ये पाबंदियां तत्काल प्रभाव से अगले आदेश तक जारी रहेंगी। 

    इस वायरस से बचने के लिए बाहर से आने वाले यात्रियों की कड़ी जांच की जा रही है। देश में 1 महिने पहले कोरोनोवायरस के केरल में 3 मरीज मिले थे जो अब ठीक हो चुके हैं लेकिन पिछले 48 घंटे में 10 नए केस सामने आ गए। आगरा में 6 लोग कोरोनोवायरस से पीड़ित मिले वहीं दिल्ली, जयपुर और हैदराबाद में इसके 1-1 मरीज मिले हैं।
lab

  केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार दिल्ली का मरीज इटली से जबकि हैदराबाद का मरीज दुबई से लौटा है और जयपुर में संक्रमित पाया गया मरीज इटली का नागरिक है। इन मरीजों की गहन निगरानी की जा रही है। स्वास्थ्य मंत्री ने अपील की है कि कोरोनोवायरस से घबराने की जरूरत नहीं है।  इसके लिए हेल्पलाइन नंबर -11 -23978046 में फोन करके कोई भी मदद ले सकता है। 

   कोरोनोवायरस से ग्लोबल इकॉनोमी को भी संक्रमण लगा है। चीन की GDP ग्रोथ रेट अनुमान 6% से 4.5% हुआ। 40 लाख जॉब्स गई। विश्व के शेयर मार्केट में गिरावट का रुख जारी है। 

  इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन ने कहा है कि यात्री संख्या गिरने से 2.14 लाख करोड़ रूपये का नुकसान हो सकता है। चीन से ऑटो पार्ट्स की सप्लाई रुक जाने से जैगुआर लैंडरोवर ने कहा है कि यूरोपियन कंपनियां 10 मार्च से कारें नहीं बना पाएंगी।  
microscope

इसे कोरोनावायरस नाम क्यों मिला -

कोरोनावायरस की सतह पर क्राउन (Crown) की तरह स्पाइक्स की सीरीज बनी होती है। लैटिन में क्राउन को कोरोना कहते हैं, इस वायरस को यहीं से कोरोना नाम मिला है। वर्तमान समय में देखे गए वायरस को नोवेल कोरोनावायरस (2019 Novel Coronavirus) 2019-nCoV का नाम दिया गया है। पहली बार चीन के वुहान में देखे गए इस कोरोनावायरस के नाम में नोवेल लगाया गया है, क्योंकि अब से पहले ये कभी नहीं पाया गया था। 


 प्रमुख बात यह हैं कि यह नया कोरोनोवायरस लोगों के बीच कैसे प्रसारित होता है, इसके लक्षण क्या होते हैं और इससे बचाव कैसे किया जा सकता है। 

कोरोनोवायरस कैसे फैलता है -

अब तक इस बारे में ठोस रूप से कुछ भी कहा नहीं गया है। लेकिन ऐसी संभावना जताई जा रही है कि इसकी शुरुआत जानवरों से हुई। लेकिन अब इसका संक्रमण इंसानों से इंसानों में फैल रहा है। मनुष्यों के बीच संचरण तब होता है जब कोई व्यक्ति, संक्रमित मरीज के स्राव के संपर्क में आता है। 

  विशेषज्ञों का कहना है कि संक्रमित व्यक्ति के छींकने, खांसने या उससे हाथ मिलाने से भी ये संक्रमण, स्वस्थ व्यक्ति में फैल सकता है। ठीक वैसे ही जैसे इंफ्लूएंजा फैलता है। 

   चीन, फ्रांस, ब्राज़ील, जर्मनी, स्पेन समेत 12 देशों की सरकारों ने हिदायत दी है कि हाथ मिलाने की परम्परा कुछ समय के लिए छोड़ दें। ब्राज़ील और चीन में हैंडशेक के बजाय फुटशेक की नई परम्परा शुरू की गई है। 

कोरोनावायरस के लक्षण (Coronavirus Symptoms) -


सर्दी या फ्लू जैसे लक्षण आमतौर पर कोरोनोवायरस संक्रमण के 2-4 दिनों के बाद से होते हैं और आमतौर पर हल्के होते हैं। पर इसमें व्यक्तियों के आधार पर भिन्नता होती है और कुछ लोगों में इस वायरस का प्रभाव घातक हो सकता है।
man-using-computer

   कोरोनावायरस,  आमतौर पर मनुष्यों सहित पक्षियों और स्तनधारियों के श्वसन पथ को प्रभावित करता है। डॉक्टर उन्हें सामान्य सर्दी, ब्रोंकाइटिस, निमोनिया और गंभीर तीव्र श्वसन सिंड्रोम (SARS) से जोड़ते हैं।

   जो लोग इस वायरस से संक्रमित हुए हैं, उनमें खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ देखी गई है। अधिकतर मरीजों में निमोनिया के लक्षण देखे गए हैं। अपने सबसे उन्नत चरण में, SARS फेफड़ों, हृदय या यकृत की विफलता का कारण बनता है।

    दूसरे लक्षणों में मांसपेशियों में दर्द, गले में फोड़े, दिमागी भ्रम भी देखा गया है। इसके मरीजों में रिकवरी, प्रतिरक्षा प्रणाली की ताकत पर निर्भर करती है। जो लोग मारे गए हैं उनमें बहुत से लोगों का स्वास्थ्य पहले से ही खराब था और उनमें से अधिकतर अधेड़ उम्र के थे। 

  मधुमेह से पीड़ित लोग, हृदय रोग या रक्त वाहिनियों की समस्या वाले जिन्हें पहले दिल दौरे पड़ चुके हों, इसके शिकार अधिक हो रहे हैं। चीन में पाए गए प्रारंभिक मरीज़ों में फेफड़े में तकलीफ़ थी और फेफड़े की वो जगह जहां से आक्सीजन रक्त प्रवाह में जाता है वहां पानी भरा हुआ था।

also read -

1. Benefits of curry leaves-मीठा नीम के शानदार फायदे 

2. Depression and how to control it-डिप्रेशन का इलाज


3. Crorepati kaise bane-करोड़पति बनने के सफल टिप्स 
woman-with-mask

कोरोनावायरस से बचाव कैसे करें -

अब तक इस वायरस से बचने के लिए किसी तरह की वैक्सीन उपलब्ध नहीं है और न ही इस संक्रमण का कोई निश्चित इलाज अब तक ढूंढा जा सका है। यूएस नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एक वैक्सीन पर काम कर रहा है, लेकिन क्लिनिकल परीक्षण के बाद इसके उपलब्ध होने में कुछ महीनों का समय लग सकता है। इससे बचने के लिए सावधानी रखना ही उपाय है -

 A. आप बीमार लोगों से बचकर संक्रमण के अपने जोखिम को कम करने में सक्षम हो सकते हैं। जब आप खांसते या छींकते हैं, तो अपने मुंह और नाक को ढंक लें, और और आस-पास के लोगों को भी ऐसा करने के लिए कहें।

B. सार्वजनिक स्थलों और भीड़भाड़ वाले स्थानों पर सावधानी बरतें।सार्वजानिक जगहों के काउंटर और मेडिकल स्टोर के काउंटर जैसी वस्तुओं से संपर्क बनाने के बाद नाक, आंख या मुंह को छूने से पहले हाथ साबुन से धो लें। घर में आपके द्वारा स्पर्श की जाने वाली वस्तुओं और सतहों को कीटाणुरहित कर दें।

C. अपने स्वास्थ्य व साफ-सफाई का पूरा ख्याल रखें। वायरस से संक्रमित व्यक्ति से हाथ मिलाना, दूसरे व्यक्ति को भी संक्रमित कर सकता है। इसलिए समय-समय पर साबुन से हाथ की सफाई जरूर करते रहें।
hand-washing

D. चीन या वायरस से संक्रमित देशों की यात्रा करने से बचें।

E. बीमार होने पर आराम करने और पर्याप्त पानी पीने के अलावा धूम्रपान और धुएँ वाले क्षेत्रों से परहेज करें। 

F. संक्रमण से बचने के लिए सार्वजनिक स्थानों पर यात्रा करते समय या काम करते समय एक एन-95 मास्क का उपयोग करें।

G. अगर इसके लक्षण जल्दी दूर होते न दिखें तो विशेषज्ञ जल्दी देखभाल करने की सलाह देते हैं। डॉक्टर दर्द या बुखार की दवा देकर लक्षणों से राहत दे सकते हैं। जो लोग सोचते हैं कि वे वायरस के संपर्क में आ सकते हैं, उन्हें अपने क्षेत्र के स्वास्थ्य केंद्र से तुरंत संपर्क करना चाहिए।

H. कोरोना से बचने के घरेलू उपाय -

1. बाजार में मिलने वाले चीज, बटर,आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक, बर्फ, लस्सी और अन्य ठंडी वस्तुओं के सेवन से बचें।

2. नमक के गुनगुने पानी से गरारे करें, इससे वायरस फेफड़ों तक नहीं पहुंच पाएगा।

3. रोजाना तुलसी, लौंग और अदरक का प्रयोग करें। इसे चाय या गर्म दूध में ले सकते हैं। हल्दी युक्त दूध का सेवन करें। 

4. सुबह की गुनगुनी धूप में कुछ देर रहें। प्रतिदिन प्राणायाम और सूर्य नमस्कार करें। इससे श्ववसन तंत्र और फेफड़े मजबूत होंगे।

5. कपूर, लौंग, इलाइची और जावित्री को पीसकर अपने साथ रखें और समय-समय पर उसे सूंघते रहें।

6. विटामिन-सी युक्त फलों जैसे  नींबू, संतरे, मौसमी और आंवला खाएं। लहसुन का इस्तेमाल भी जरूर करें।

7. स्वस्थ आहार और जीवन शैली के माध्यम से प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने का उपाय करें। शाकाहारी और हमेशा ताजा भोजन खाएं। मांसाहार के सेवन से बचें।

8. आयुर्वेदिक उपचार के लिए त्रिकटु (पिप्पली, मारीच और शुंठी) पाउडर 5 ग्राम और तुलसी की 5-7  पत्तियां 1-लीटर पानी में उबालें, जब यह पानी आधा रह जाए तो इसे छानकर कांच की बोतल में रख लें।

  इसे आवश्यकतानुसार आधा कप की मात्रा में दिन में 2 -3 बार लेते रहें। इसे सेवन करने से पहले पंजीकृत आयुर्वेद चिकित्सक से  परामर्श अवश्य करें।  

  आशा है ये पोस्ट "Coronavirus Symptoms- कोरोनावायरस के लक्षण और बचाव" आपको उपयोगी लगी होगी। इसे अपने मित्रों एवं परिवार के अन्य सदस्यों तक शेयर कर सकते हैं। ऐसी ही और भी उपयोगी जानकारी  इस वेबसाइट पर विजिट करते रहें। 

also read -

1. 5 health benefits of red rice-लाल चांवल के 5 अद्भुत फायदे 

2. What is health in hindi-स्वास्थ्य क्या है 

3. Best trading strategy-शेयर ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाएं 



No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad