Natural Remedies For Cough-खांसी ठीक करने के जादुई घरेलू उपाय - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Friday, 15 January 2021

Natural Remedies For Cough-खांसी ठीक करने के जादुई घरेलू उपाय

Natural Remedies For Cough-खांसी ठीक करने के जादुई घरेलू उपाय  

आयुर्वेद के अनुसार अस्वस्थ भोजन, एवं जीवनशैली के कारण शरीर में वात एवं कफ दोष होने लगते हैं, इसमें मुख्यतः कफ दोष के कारण खांसी होती है। मौसम में बदलाव होने पर सर्दी-खांसी की शिकायत अधिक देखी जाती है, इससे बच्चे और बुजुर्ग सभी प्रभावित हो सकते हैं। सूखी खांसी बहुत परेशान कर सकती है, खांसी होने पर गले में खराश और पेट व पसलियों में दर्द भी होने लगता है। 


homely-medicine


   खांसी मुख्यतः दो प्रकार की होती है - सूखी खांसी (Dry cough), बलगम युक्त खांसी (Wet cough) खांसी के कारणों में वायरल संक्रमण, सर्दी या फ्लू, प्रदूषण और धूल-मिट्टी से युक्त वातावरण, अधिक धूम्रपान करना, नाक और गले में किसी बाहरी पदार्थ के कारण से एलर्जी होने से लेकर टीबी (Tuberculosis) या दमा रोग होने जैसे कारण भी हो सकते हैं।


   खांसी होने पर शरीर के श्वसन मार्ग से धूल, बलगम आदि बाहर आने लगते हैं। प्रायः देखा जाता है कि खांसी होते ही व्यक्ति, दवा दुकान से खांसी की सिरप खरीदकर पी लेता है। जिससे तात्कालिक राहत भले ही मिल जाए, लेकिन क्या आप जानते हैं कि खांसी के बहुत से सिरप में कोडीन होता है, जो अफीम का ही एक रूप है। 


    कोरेक्स जैसे कुछ खांसी -सिरप का इस्तेमाल नशे के लिए होने के कारण सरकार ने इस पर प्रतिबंध भी लगा दिया है। इसकी बिक्री प्रतिबंधित है, परन्तु चोरी छिपे नशेड़ियों द्वारा इसका इस्तेमाल किया जाता है। इसका असर ड्रग्स की तरह होने के कारण व्यक्ति बहुत जल्दी इसका आदी हो जाता है। यूरोपीय देशों में खांसी के कुछ सिरप ब्रांड के बच्चों की मौत का कारण बनने पर दवा कंपनियों पर मुकदमें किये गए और दवा कंपनियों को हर्जाना भी देना पड़ा।


lungs

 

खांसी के दौरान कैसे रहें -


खांसी का घरेलू उपचार किया जा सकता है परन्तु इसके लिए उचित खान-पान एवं परहेज करना जरूरी है। ऐसा नहीं करने पर यह बिगड़कर पुरानी खांसी का रूप ले सकती है। इसलिए आपका खान-पान और रहन सहन इस प्रकार होना चाहिए -


A. यदि खांसी के साथ सर्दी जुकाम की शिकायत हो तो बेहतर है कि कम से कम 1 दिन का उपवास करें, इस दौरान पानी में नींबू और शहद मिलाकर पीते रहें।

 

B. उपवास नहीं कर पा रहे हैं तो गर्म एवं ताजा भोजन ही खाएं। ठण्डे, बासी भोजन, तैलीय भोजन और जंक फूड का सेवन बिल्कुल बन्द कर दें।

 

C. कोल्ड्रिंक, बर्फ का पानी, आइसक्रीम का सेवन बिल्कुल ना करें। आप खांसी से परेशान हैं तो गर्म पानी पिएं, यह गले में जमे कफ को कम करने में मदद करेगा।


yoga
 
D. योगाभ्यास व प्राणायाम, शरीर की इम्युनिटी को बढ़ाने के साथ शरीर के विजातीय पदार्थों को दूर करने में बहुत लाभदायक होता है। अपनी क्षमता के अनुसार कपालभाति, अनुलोम विलोम, भस्त्रिका प्राणायाम धीरे धीरे करें। 

E. भोजन में गाजर, टमाटर और सब्जियों के सूप का सेवन काली मिर्च डालकर करें। फलों में अनानास का सेवन करें। अनानास, खांसी की तीव्रता को कम करता है और बलगम को ढीला करता है।


F. भोजन में लहसुन एवं प्याज का अधिक सेवन करें। यह म्यूकस के उत्पादन को कम करता है।


G. स्वच्छ वातावरण में रहें, प्रदूषणयुक्त वातावरण एवं धूल मिट्टी में जाने से बचें।


Natural Home Remedies For Cough (खांसी दूर करने के असरदार नुस्खे)


अगर आप लंबे समय से खांसी से परेशान हैं, तो इसे खत्म करने के लिए यहां कुछ घरेलू नुस्खे बताए जा रहे हैं। 


 1. हल्दी -


हल्दी का उपयोग सदियों से आयुर्वेदिक दवा के रूप में किया जाता रहा है। अन्य बीमारियों के अलावा श्वसन तंत्र से संबंधित रोगों जैसे ब्रोंकाइटिस और अस्थमा के इलाज के लिए भी इसका प्रयोग किया जाता है। हल्दी में सूजनरोधी, एंटीबैक्टीरियल और एंटीवायरल गुण होते हैं। यह सूखी खांसी के लिए भी फायदेमंद होता है।


A.  एक चम्मच हल्दी और अजवायन को एक गिलास पानी में उबालें। जब यह पानी उबलकर आधा हो जाए, तब आधा चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार सेवन करें।


turmeric


B. काली मिर्च के साथ हल्दी लेने पर यह रक्त प्रवाह में अच्छे से अवशोषित होता है। आप 1 चम्मच हल्दी और काली मिर्च का चूर्ण 1/8 चम्मच गुड़ के साथ पानी में उबालकर काढ़ा बना सकते हैं।


C. हल्दी वाला दूध पीने से भी आराम मिलता है। इसके लिए 1 गिलास दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाकर पिएं।


D. कच्ची हल्दी को मुँह में लेकर चबाएं। जैसे-जैसे इसका रस गले से नीचे उतरेगा, खांसी की उग्रता में कमी आएगी। प्रतिदिन यह प्रयोग खांसी ठीक होने तक करें।


2. अदरक -


अदरक में जीवाणुरोधी गुण होते हैं। यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने और दर्द से राहत देने में मदद करता है।


A. एक चम्मच अदरक के रस को शहद के साथ चाटने से सूखी खांसी से आराम मिलता है।


B. अदरक को पानी में अच्छी तरह उबाल लें। जब काढ़ा बनकर तैयार हो जाए, तब दो चम्मच शहद मिलाकर पीने से खांसी में आराम मिलता है।


ginger


C. 4 कप पानी में 2-3 छोटे टुकड़े अदरक, और एक चम्मच सूखा पुदीना मिलाकर उबालें। जब पानी की मात्रा आधी रह जाए, तब इसे उतारकर ठंडा करके छान लें। अब इसमें एक कप शहद अच्छी प्रकार मिला कर रख लें। रोज इस सिरप की एक चम्मच मात्रा दिन में 2 -3 बार पिएं।


D. अदरक की एक गांठ को कूटकर उसमें एक चुटकी नमक मिला लें और दाढ़ के नीचे दबा लें। उसका रस धीरे-धीरे मुंह के अंदर जाने दें। 


3. काली मिर्च -


A. काली मिर्च बलगम को बाहर निकालने और बंद नाक को खोलने में मदद करती है। काली मिर्च और शहद के मिश्रण से सूखी खांसी दूर होती है। 4-5 काली मिर्च पीसकर शहद में मिलाकर खा लें।  कुछ दिन तक यह प्रयोग करने से आराम होगा।


B. काली मिर्च को देसी घी के साथ मिलाकर सेवन करने से बलगम और गले के दर्द से छुटकारा पाया जा सकता है।


C. 10 -12 काली मिर्च के दाने, 4 -5 लौंग, 1 चम्मच अजवाइन और अदरक का 1 इंच टुकड़ा या आधा चम्मच सोंठ, 5 तुलसी की पत्तियां, 2 इलायची व थोड़ा गुड़ लेकर 1 गिलास पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाए तब इसे छानकर किसी कांच के बर्तन में भरकर रख लें।


 इसे  3 - 4 दिनों तक उपयोग कर सकते हैं। बच्चों को इसकी 1 -1  चम्मच मात्रा सुबह शाम दें और बड़ों के लिए 2 -2 चम्मच दिन में 3 बार ले सकते हैं। बिना किसी साइड इफ़ेक्ट के आपको यह काढ़ा सर्दी जुकाम खांसी से राहत देगा।  


tulsi-water


 4. शहद -


शहद  किसी भी औषधि के गुणों में वृद्धि करता है। शहद के कालीमिर्च, अदरक और हल्दी के साथ ऊपर बताये गए प्रयोग के अलावा कुछ अन्य प्रयोग इस प्रकार हैं -


A. शहद गले की खराश को दूर करके गले के इंफेक्शन को भी ठीक करता है। इसके लिए 2 चम्मच शहद को आधे गिलास गुनगुने पानी में मिलाकर पिएं। रोजाना इस तरीके को अपनाने से सूखी खांसी में आराम मिलेगा।


B. शहद में जीवाणुरोधी गुण होते हैं और यह जलन को कम करने के साथ गले को कोट करने में भी मदद कर सकता है।  एक चम्मच शहद में 1 चुटकी इलायची और थोड़ा सा नींबू का रस मिला कर सेवन करने से खांसी में आराम मिलता है। 


honey

C. आधा चम्मच प्याज का रस, और एक चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार लेने से खांसी में आराम मिलता है।


D. शहद के साथ पीपल की गांठ का प्रयोग सूखी खांसी में लाभकारी माना गया है। इसके लिए एक पीपल की गांठ को पीस लें और उसे एक चम्मच शहद में मिलाकर खा लें। रोजाना ऐसा ही करने से कुछ ही दिन में सूखी खांसी ठीक हो जाती है।


5. मुलेठी -


A. मुलेठी का चूर्ण श्वसन तंत्र में सूजन को कम करता है और म्यूकस को ढीला करता है। सूखी खांसी या गले की किसी समस्या से निजात पाने के लिए मुलेठी बेहद उपयोगी है। काली मिर्च के साथ मुलेठी को पीस कर सेवन करना, सूखी खांसी के लिए लाभकारी रहता है।  


B. इसे चूसने या उबालकर इसकी चाय बनाकर पीने से गले की खराश व दर्द में राहत मिलती है। 


C. मुलेठी की भाप लेने से भी सूखी खांसी में आराम मिलता है। इसके लिए दो  चम्मच मुलेठी के चूर्ण को 2-3 गिलास पानी में डालकर उबालें और 10 मिनट तक इसका भाप लें। दिन में दो बार इस प्रयोग को करें।


D. एक चौथाई चम्मच मुलेठी और दालचीनी पाउडर मिलाकर शहद के साथ चाटने से खांसी में आराम मिलता है।


6. खांसी दूर करने के अन्य उपाय -


A. लहसुन -

garlic


लहसुन भी खांसी से राहत दिलाने में कारगर है, इसके लिए आप लहसुन को घी में भून कर खाएं। 


B. आंवला -

amla


आंवला में विटामिन-सी और एंटी-ऑक्सीडेंट भरपूर होता है, यह शऱीर की इम्यूनिटी को मजबूत करके रोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करता है। आंवला खांसी दूर करने के लिए काफी असरकारी माना जाता है। 


C. सरसों के बीज -


एक चम्मच सरसों के बीजों को एक गिलास गर्म पानी में उबाल लें। अच्छी प्रकार उबल जाने पर पानी को पिएं। इससे जमा हुआ कफ बाहर निकलने लगता है। सरसों के बीज में मौजूद सल्फर, जमे हुए कफ को बाहर निकालने में मदद करता है।


D. गिलोय का रस -


गिलोय के रस को रोज सुबह-शाम खाली पेट पीने से पुरानी खांसी भी ठीक हो जाती है। इसे किसी भी आयुर्वेदिक दवा विक्रेता से प्राप्त कर सकते हैं। 


E. तुलसी -

honey-tulsi

also read -


Upwas Kren, Swasth Rahen-उपवास करें, स्वस्थ रहें 


Triphla Churn Health Benefits-त्रिफला चूर्ण के उपयोग और सेवन विधि 


तुलसी की पत्तियों को पानी में उबालकर काढ़ा बनाएं, फिर इसमें अदरक का रस और शहद मिलाकर सेवन करें


F.  नमक के पानी से गरारे करें -


गर्म खारे पानी से गरारे करने पर सूखी खांसी के कारण होने वाली परेशानी और जलन को कम करने में मदद मिलेगी। नमक का पानी मुंह और गले में बैक्टीरिया को मारने में भी मदद करता है।


G. नीलगिरी तेल -


नीलगिरी तेल का उपयोग अरोमाथेरेपी के लिए करें। युकलिप्टस तेल से अपने कमरे को सुगंधित करने में मदद मिल सकती है, और आप रात को बेहतर नींद ले पाते हैं। आप एक कटोरे में गर्म पानी लेकर उसमें कुछ बूंदें नीलगिरी तेल की मिला सकते हैं और इसकी भाप को साँस में ले सकते हैं।


H. अनार का रस -


अनार का रस भी खांसी से राहत दिलाता है।  लेकिन इसके लिए आपको अनार के जूस में जरा सा पिपली पाउडर और अदरक का रस मिलाकर उपयोग करना होगा। 


   उपरोक्त नुस्खों में से अपनी सुविधानुसार किसी भी नुस्खे का प्रयोग कर सकते हैं। इसका प्रयोग करने के 1 घंटे तक पानी का सेवन न करें। प्रयोग अवधि में कुनकुने पानी का उपयोग करें। सदा स्वस्थ रहने के लिए शुद्ध, सात्विक, ताज़ा व गर्म भोजन करें और अधिक तेलयुक्त जंक फ़ूड का त्याग करें। 


     आशा है ये आर्टिकल  "Natural Remedies For Cough-खांसी ठीक करने के जादुई घरेलू उपाय " आपको पसंद आया होगा, इसे अपने मित्रों को शेयर कर सकते हैं जिससे वे भी इन नुस्खों का लाभ उठा सकें। अपने सवाल एवं सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखें। ऐसी ही और भी उपयोगी जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विज़िट करते रहें। 


also read -


Natural Ways to Cleanse Your Lungs-फेफड़ों की सफाई के प्राकृतिक तरीके   


Natural Ways to Stay Young-युवा रहने के प्राकृतिक तरीके   


7 Tips For Building a House-घर बनाने का सही तरीका 


No comments:

Post a comment

Post Bottom Ad