Bogenvelia ke paudhe ki complete Jankari (bogenvelia plant) - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Monday, January 28, 2019

Bogenvelia ke paudhe ki complete Jankari (bogenvelia plant)

बोगनवेलिया के पौधे की कम्पलीट जानकारी -

चाहिए फूलों की बहार तो लगाएं बोगनवेलिया एक बार - हमारे घर की छत या गार्डन के लिए कुछ पेड़ पौधे ऐसे होते हैं जो एक बार लगाने पर लगभग साल भर फूलों से लदे होते हैं, ऐसा ही एक पौधा है बोगनवेलिया। इसे लगाना भी एकदम आसान है और इसमें ज्यादा देखरेख की जरूरत नहीं होती। इसे गमले के अलावा गार्डन या अपने फार्म हाउस की बॉउंड्री में भी लगा सकते हैं।

flower of bogenvelia


Nature की इस श्रृंखलामें हम ऐसे पेड़ पौधों की बात करेंगे जो आपके घर या गार्डन की शोभा में चार चांद लगाने के साथ वातावरण को मनमोहक बना देते हों।  बोगनविलिया एक  झाड़ी नुमा बेलदार पौधा है जो 3 फुट से लेकर 20 फुट से भी अधिक ऊँचा हो सकता है।
        इसका प्रयोग खुली जगह या बॉउंड्री में कर सकते हैं क्योंकि इसमें कांटे पाए जाते हैं, जिसके कारण जानवरों से इसकी रक्षा हो जाती है। तीखे काँटों के कारण इसकी डाल को दास्ताने पहन कर ही छूना चाहिए।
        ये लाल, पीले , ऑरेंज, सफ़ेद , मैरून और बहुत से रंगो में पाया जाता है। इसके फूल गुच्छों में पाए जाते हैं फूलों की पंखुड़ियां छूने पर कागज की तरह लगती है इसलिए कागज का फूल भी कहते हैं।


कैसी मिटटी में लगाए -

इसके लिए 5.5 से 6 ph वाली मिटटी उपयुक्त होती है। मिटटी ज्यादा जल सोखने वाली ना हो, इसे लगाते समय आवश्यकतानुसार बालू के साथ गोबर की खाद या वर्मी कम्पोस्ट का प्रयोग करे। पानी का जमाव बोगनवेलिया के लिए ठीक नहीं होता।

बोगनवेलिया को कैसे उगाना है -

इसे कलम की मदद से लगाया जाता है लगभग 8 इंच लम्बी डंडी काटकर गमले या मिट्टी में गोबर खाद मिलाकर लगा सकते हैं । बोगनवेलिया एक उष्णकटिबंधीय (Tropical Plant) पौधा है। इसे सही जलवायु में रोपें, तो यह कुछ ही महीने में रंग-बिरंगे फूलों से लहक उठेगी। यह झाड़ीनुमा बेल है और ठंड से सुरक्षित बच जाए तो हर साल दीवारों और जालियों पर चढ़ती-उतरती है।



bogenvelia plantbogenvelia ka paudha
 

धूप लगना जरूरी -

बोगनवेलिया उन पौधों में से है, जो सूरज को पसंद करते हैं, ठंड के दिनों में घर के अंदर इसकी पत्तियां मुरझा सकती हैं बोगनवेलिया को रोजाना कम से कम 5 घंटे सूरज की भरपूर रोशनी चाहिए। बोगनवेलिया को बेल की तरह ऊपर चढ़ाने के लिए किसी तार या रस्सी का सहारा दें। बोगनवेलिया की शाखाओं को इस सहारे के साथ ऊपर चढ़ाकर उन्हें बाँध दें। इसके विकास पर नजर रखें और बोगनवेलिया जब तक दीवार या अन्य सतहों को ढँक न ले आवश्यकतानुसार इसे सहेजते रहें।

       सर्दियों में बोगनवेलिया को घर के अंदर रख लें, अगर आप एक ऐसी जलवायु वाले प्रदेश में रहते हैं जो सर्दियों में ठंडा हो जाता है, और बोगनवेलिया को गमले में रोपा है, तो सर्दियों में इसे घर के अंदर ले आएं। अगर आपने इसे बाहर छोड़ दिया तो यह यह कठोर ठंडे मौसम की मार से बच नहीं पायेगी।

कटाई छटाई करते रहे -

इसकी अच्छी वृद्धि और सही आकार देने के लिए इसकी कटाई छटाई करते रहे, छटाई के समय दास्ताने का उपयोग करें। बोगनवेलिया को गर्म वातावरण ज्यादा पसंद है. यदि इसे आपने घर के गमले में लगाया है तो ठंड में या सुनिश्चित करें की कम से कम 5 घंटे की धूप इसमें लगे।

पानी का जमाव --

अगर इस पौधे में पानी अधिक दिया जाए तो इसमें फूल कम होने लगते हैं। यह पौधा अपनी जड़ों में पानी का जमाव बिल्कुल पसंद नहीं करता बल्कि पानी की थोड़ी कमी को बर्दाश्त कर लेता है। इसकी जड़ों के आसपास रिंग बनाकर आवश्यकतानुसार निराई गुड़ाई करते रहे एवं फास्फेट वाली खाद का प्रयोग करें। इस तरह थोड़ी सी देखरेख से बोगनवेलिया आपके गार्डन की खूबसूरती को बढ़ा देती है। यह सदाबहार पौधा है, सामान्यतः इसमें कीट प्रकोप कम ही होता है।
ये थी "bogenvelia paudhe ki complete jankari" यहां प्रदर्शित बोगनवेलिया के सभी फोटो मेरे फार्म हाउस से लिए गए हैं। आशा है ये जानकारी आपको अच्छी लगी होगी। इसे अपने मित्रों से शेयर करें, आपके सवाल या सुझावों के लिए कमेंट कर सकते हैं।


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad