advantage of ginger. अदरक के फायदे. - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Saturday, February 16, 2019

advantage of ginger. अदरक के फायदे.

अदरक के फायदे (advantage of ginger) 

अदरक के फायदे अनेक हैं. भारतीय रसोई में जमकर इस्तेमाल की जाने वाली अदरक  की तासीर गर्म होती है. और यही वजह है क‍ि इसे सर्दियों में ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। चाय में इसका इस्तेमाल हर घर में किया जाता है।
       
  अदरक में प्रोटीन, आयरन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेटस जैसे तत्व होते हैं. सूखे हुए अदरक को सोंठ कहते हैं।  अदरक का कोई बीज नहीं होता, इसके कंद के ही छोटे-छोटे टुकड़े जमीन में गाड़ दिए जाते हैं। यह एक पौधे की जड़ है।
adrak ka knd
        दुनिया में हुए बहुत से अध्ययनों में पाया गया है कि अदरक में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होते हैं। एंटीऑक्सीडेंट बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं क्योंकि वे फ्री रेडिकल्स के खिलाफ सुरक्षा प्रदान करते हैं। 

       इससे उम्र के साथ आने वाली तमाम तरह की बीमारियों जैसे कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, आर्थराइटिस, अल्जाइमर्स और बाकी रोगों से बचाव में मदद मिलती है। हालांकि सभी मसालों में शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं, पर अदरक उनमें ज्यादा प्रभावशाली है। 


अदरक के फायदे  (advantage of ginger.)

1. सर्दी- जुकाम या फ्लू  (ginger for cough, cold and flu) - 

मौसम के बदलने से  सर्दी-जुकाम या फ्लू होने की संभावना रहती है. ऐसे में अदरक का सेवन आपको इनसे बचा सकता है. यह शरीर को गर्म रखता है जिससे पसीना अधिक आता है और सर्दी जुकाम में राहत मिलती है।    सर्दी-खांसी और फ्लू में नींबू तथा शहद के साथ अदरक की चाय पीना सदियों से  आजमाया जाने वाला  बहुत लोकप्रिय नुस्खा है।

    सबसे अहम बात यह है कि यह सेहत के लिए हितकारी पसीने को बढ़ा सकती है। शरीर को विषमुक्त करने और सर्दी-जुकाम के लक्षणों में लाभदायक इस तरह का पसीना बैक्टीरियल और फंगल संक्रमणों से भी लड़ने में मददगार साबित होता  है।
ginger with honey and lemon

2. हृदय रोग में  (benefits of ginger for heart) -


अदरक कोलेस्ट्रॉल लेवल को कम करने में मददगार होता है. इतना ही नहीं यह ब्लड प्रेशर को ठीक रखने, खून को जमने से रोकने का काम करता है. तो कुल मिलाकर यह आपके दि‍ल के लि‍ए बहुत फायदेमंद है। अदरक सालों से हृदय रोगों के उपचार में इस्तेमाल होती रही है। 

    चीनी चिकित्सा में कहा जाता है कि अदरक के उपचारात्मक गुण हृदय को मजबूत बनाते हैं। आधुनिक अध्ययन दर्शाते हैं कि अदरक  के तत्व कोलेस्ट्रॉल को कम करने, ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने, रक्त प्रवाह में सुधार लाने और  रक्त के थक्कों से बचाव करने का काम करते हैं। ये सारी चीजें हृदयाघात (हार्ट अटैक) और स्ट्रोक के जोखिम को कम करती हैं। 

3. श्वास संबंधी बीमारी  ( Breathing problems ) -

अदरक का रोज सेवन करने से श्वास संबंधी रोगों में कमी लाई जा सकती है।  वहीं अदरक में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स इसे एलर्जी और संक्रमण से भी बचाते हैं। श्वास संबंधी समस्याओं के उपचार में अदरक के तत्वों के सकारात्मक नतीजे दिखे हैं। 

     शोध से पता चलता है कि दमा से पीड़ित मरीजों के उपचार में इसका प्रयोग आशाजनक रहा है। दमा एक स्थायी बीमारी है जिसमें फेफड़ों की ऑक्सीजन वाहिकाओं के स्नायुओं में सूजन आ जाती है और वे विभिन्न पदार्थों के प्रति संवेदनशील हो जाते हैं, जिससे दौरे पड़ते हैं।

      हाल में हुए एक अध्ययन से पता चलता है कि अदरक हवा के मार्ग में बाधक एंजाइम को निष्क्रिय करके आराम पहुंचाने वाले दूसरे एंजाइम को सक्रिय करके  दमा के उपचार में लाभदायक होता है।

also read -
  1. actor  kaise bane 
  2. cricket and other sports in india 

ginger slice


4. भूख  बढ़ाने में - 

अगर भूख कम लगती है और इसे बढ़ाना है तो इसमें भी अदरक काफी फायदा पहुंचा सकती है. अदरक के सेवन से भोजन  को पचाने में मदद मिलती है, जिससे भूख बढ़ाने में काफी मदद मिलती है। अदरक को हजारों सालों से प्राचीन सभ्यताओं द्वारा एक पाचक के रूप में इस्तेमाल किया जाता रहा है।

      इसके वात को दूर करने वाले तत्व पेट की गैस को दूर करके पेट फूलने और उदर वायु की समस्या से बचाव करते हैं। साथ ही पेट में मरोड़ को ठीक करने वाले इसके तत्व मांसपेशियों को आराम पहुंचाते हुए अजीर्णता में राहत पहुंचाते हैं। भोजन से पहले नमक छिड़क कर अदरक के टुकड़े खाने से  पाचन में मदद मिलती है और पेट की समस्याओं से बचाव होता है। 

      भारी भोजन के बाद अदरक की चाय पीने से भी पेट फूलने और उदर वायु को कम करने में मदद मिलती है।  अपच  के उपचार, बच्चों में पेट दर्द और बैक्टीरिया जनित दस्त के उपचार में अक्सर अदरक लेने की सलाह दी जाती है।
ginger and lemon

5. कैंसर रोग में  -- 

अदरक कैंसर जैसे रोग में भी फायदेमंद है मिशिगन यूनिवर्सिटी कांप्रिहेंसिव कैंसर सेंटर के एक अध्ययन में  शोधकर्ताओं ने ओवरी कैंसर कोशिकाओं पर अदरक पाउडर और पानी का एक लेप लगाया। 

        हर परीक्षण में पाया गया कि अदरक के मिश्रण के संपर्क में आने पर कैंसर की कोशिकाएं नष्ट हो गईं। हर कोशिका ने या तो आत्महत्या कर ली, जिसे एपोप्टोसिस कहा जाता है या उन्होंने एक-दूसरे पर हमला कर दिया, जिसे ऑटोफेगी कहा जाता है।

      अदरक को स्तन कैंसर, प्रोस्टेट कैंसर और कोलोन कैंसर के इलाज में भी बहुत लाभदायक पाया गया है। जर्नल ऑफ बायोमेडिसिन एंड बायोटेक्नोलॉजी में प्रकाशित शोध में पता चला कि अदरक  के  रसायनों ने स्वस्थ कोशिकाओं पर असर डाले बिना स्तन कैंसर की कोशिकाओं के प्रसार को रोक दिया। यह गुण बहुत महत्वपूर्ण है। 



 सावधानियाँ  --

 दो साल से कम उम्र के बच्चों को अदरक नहीं दी जानी चाहिए। आम तौर पर, वयस्कों को एक दिन में 4 ग्राम से ज्यादा अदरक नहीं लेनी चाहिए। गर्भवती स्त्रियों को 1 ग्राम रोजाना से अधिक नहीं लेना चाहिए। 

    अदरक का उपयोग तुलसी के पत्तों के साथ करना अधिक फायदेमंद है। दोनों को कूट कर  पानी  में उबाल लें। इस  तरह बिना भारी खर्च के अदरक  इस्तेमाल करके आप अनेक बीमारियों से दूर रह सकते हैं।


       आशा है ये पोस्ट  "अदरक के फायदे " आपको उपयोगी लगी होगी।  इसे  अपने मित्रों को शेयर कर  सकते हैं।  ऐसी और भी उपयोगी जानकारी पाने के लिए इस  वेबसाइट में विजिट करते   रहें। 

 also read -

1.Dalchini ek faayde anek 

2.lahsun ke fayde 




1 comment:

Post Bottom Ad