Breakfast Business- नाश्ते के बिज़नेस में 10 हजार से लाखों कमाएं - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Sunday, January 26, 2020

Breakfast Business- नाश्ते के बिज़नेस में 10 हजार से लाखों कमाएं

Breakfast Business- नाश्ते के बिज़नेस में 10 हजार से लाखों कमाएं 

हमारे देश में डिग्रीधारी युवाओं की संख्या जिस गति से बढ़ रही है, उस अनुपात में नौकरियां उपलब्ध नहीं होने के कारण बेरोजगारी निरंतर बढ़ती जा रही है। अधिकतर डिग्रीधारी युवा नौकरी की तलाश में होते हैं परन्तु जहां एक ओर सरकारी क्षेत्र में नौकरी के सीमित अवसर हैं, वहीं बिना विशेष डिग्री और अनुभव के प्राइवेट सेक्टर में वेतन बहुत कम है। 

    ऐसी स्थिति में स्वयं का व्यवसाय करना एक विकल्प है परन्तु इसके लिए, बड़ी पूँजी की व्यवस्था करना आसान नहीं है। बेरोजगारी की समस्या का एक कारण वह मानसिकता है जिसमें कम लागत से किये जाने वाले बिज़नेस को हीन दृष्टि से देखा जाता है। 

indian-street-food

   यह आर्टिकल उनके लिए है जो अधिक पूँजी की व्यवस्था करने में सक्षम नहीं हैं और कम पैसे में अपना व्यवसाय प्रारम्भ करना चाहते हैं।नाश्ते का बिज़नेस एक ऐसा बिज़नेस है जिसे बहुत कम लागत में शुरू किया जा सकता है और कमाई के मामले में इसका कोई मुकाबला नहीं है। अधिकतर बिज़नेस तेजी मंदी के चक्र से प्रभावित होते हैं परन्तु मंदी की मार से अप्रभावित रहने वाले ब्रेकफास्ट शॉप के बिजनेस में आप लोगों को शुद्ध और स्वादिष्ट नाश्ता उपलब्ध करवाकर अच्छा मुनाफा कमा सकते है। 


    मात्र 10 हजार रूपये में किराये के ठेले में यह बिज़नेस शुरू करके आप हजारों नहीं, बल्कि लाखों रूपये कमा सकते हैं। परन्तु इसके लिए आपमें काम करने का जूनून और परिश्रम करने की क्षमता होनी चाहिए। सबसे पहले आपको छोटे-बड़े धंधे की मानसिकता से बाहर निकल कर अपना बिज़नेस कायम करने की सोच बनाने की जरूरत होगी। अगर दुकान किराये पर लेकर यह बिज़नेस शुरू करेंगे तो 1 -2 लाख रूपये लग सकते हैं। यह खर्च आप अपनी शॉप में जितनी सुविधाएँ उलब्ध करवाएंगे उसके अनुसार बढ़ता जायेगा।  

    शहरों में ऐसे लोग बड़ी संख्या में रहते हैं जिन्हें सुबह ऑफिस या अपने काम में जाने की जल्दी होती है। ऐसे लोग सुबह का नाश्ता घर से बाहर ही करते हैं, ब्रेकफास्ट कार्नर या ठेलों में इनकी भीड़ देखी जा सकती है। सुबह कुछ घंटों के लिए लगने वाले नाश्ते के फेमस ठेलों में बिक्री 5 से 10 हजार रूपये तक हो जाती है। 50% मार्जिन वाले इस काम से कमाई का आकलन आप खुद कर सकते हैं।  
indian-street-food

कैसे शुरू करें ब्रेकफास्ट शॉप का बिजनेस -

आपको अपने बिजनेस के लिए योजना और मैनेजमेंट नीति बनाते समय अपने बजट का ध्यान रखना होगा। आप इस बिजनेस को दुकान या  स्टॉल के रूप में शुरू कर सकते है। विदेशों की तर्ज पर मोबाइल फ़ूड ट्रक बिज़नेस भी देश के महानगरों में तेजी से बढ़ता जा रहा है। परन्तु इसके लिए अधिक बजट की जरूरत होती है। 

    बजट कम होने पर किराये का ठेला लेकर भी नाश्ते का बिज़नेस किया जा सकता है। इस बात का यकीन करें कि आज का बड़ा और सफल दिखने वाला बिज़नेस भी कभी अत्यंत छोटे रूप में शुरू किया गया था। ब्रेकफास्ट बिजनेस की सफलता के लिए इसमें आपकी रूचि होने के साथ इसे शुरू करने से पहले कुछ आवश्यक बातों का ध्यान रखना जरूरी है। 
cafe

ब्रेकफास्ट बिजनेस की जरूरी बातें 

1. जगह का चयन -

नाश्ते का बिजनेस शुरू करने के लिए एरिया का चयन सोच समझकर करना होगा। आप अपने शहर में किसी भीड़ भाड़ वाले चौराहे का चयन कर सकते हैं। किसी स्कूल-कॉलेज के पास, अस्पताल, गार्डन या किसी ऑफिस के पास जहां लोगों का आना जाना लगा रहता है, वहां अपना ब्रेकफास्ट बिज़नेस शुरू कर सकते हैं। 

    अगर आप दुकान किराये पर लेकर इस काम को नहीं करना चाहते तो किसी छोटी वैन या ठेले में भी नाश्ते का बिज़नेस कर सकते हैं। इसके लिए एक व्यक्ति को काम पर रखें जो आपकी चलती फिरती दुकान को लाने ले जाने का काम कर सके। जगह के आधार पर यह निश्चित करें कि वहां नाश्ते का बिज़नेस सिर्फ सुबह के समय चलाना है या शाम को भी दुकान लगाने से लाभ हो सकता है।
pavbhaji-delicious-breakfast

2. जरूरी लाइसेंस प्राप्त करें -

A. अगर आप स्वयं की अथवा किराये की दुकान लेकर बिजनेस शुरू करना चाहते है तो आपको शॉप एक्ट के तहत सर्टिफिकेट प्राप्त करना होगा। फ़ूड वैन के लिए RTO से अनुमति प्राप्त करने के साथ इसकी पार्किंग के लिए जगह और शुल्क भुगतान के नियमों की जानकारी नगर निगम से प्राप्त करें। 

B. ब्रेकफास्ट शॉप, खान-पान  का बिजनेस है, इसलिए इसके लिए फ़ूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (FSSAIका लाइसेंस लेना होगा जिसकी जानकारी  www.fssai.gov.in वेबसाइट पर प्राप्त कर सकते हैं।

C. आपके शहर की नगर निगम से नियमानुसार हेल्थ और सेफ्टी सर्टिफिकेट के लिए वहां निर्धारित राशि जमा कर सर्टिफिकेट प्राप्त करना होगा।

D. अपनी शॉप के लिए GST नंबर प्राप्त करने हेतु किसी CA की मदद ले सकते हैं।
south-indian-dish-dosa

3. नाश्ते के आइटम -

ब्रेकफास्ट शॉप के बिजनेस में स्थानीय लोगों के स्वाद और पसंद का ध्यान रखना आवश्यक है। सामान्यतः उत्तरी और मध्य भारत में समोसा, कचौड़ी, पावभाजी, ढोकला, आलूचाप, पोहा, जलेबी आदि व्यंजन अपने मेन्यू में शामिल कर सकते है। वहीं दक्षिण भारत में डोसा, इडली, वडा, उपमा  आदि अधिक पसंद किये जाते हैं। 

     अपनी ब्रेकफास्ट शॉप में बहुत अधिक आइटम रखने की जगह नाश्ते की दो या तीन आइटम पर फोकस करें। यदि आपके पास कोई ख़ास रेसेपी हो और लोगों को उसका स्वाद पसंद आया हो तो उसे अपनी दुकान की मेनू लिस्ट में शामिल कर सकते हैं। आपके नाश्ते के बिज़नेस की सफलता के लिए यह आवश्यक है कि आपकी दुकान का कोई एक खाने का आइटम फेमस होना चाहिए। 
indian-breakfast-idly


    प्रत्येक शहर में दो चार नाश्ते के ऐसे सेंटर होते हैं जहां लोग खिंचे चले आते हैं क्योकि वहां नाश्ते के किसी आइटम का स्वाद बहुत ख़ास होता है। जैसे किसी दुकान की कचौड़ी, समोसा तो कहीं का प्याजी वड़ा प्रसिद्ध होता है। आपको अपना फोकस किसी एक आइटम को फेमस करने की ओर रखना होगा, इसके लिए जरूरी नहीं कि कोई नई डिश ही बनाएं। 

    आप परम्परागत किसी डिश को ही इस प्रकार से बनाएं कि वो स्वाद में बेमिसाल लगे। यहां प्रेजेंटेशन का भी बहुत महत्व है। डिश सर्व करने वाले की विशेष पोशाक और उसके देने का तरीका ख़ास होने से दुकान की पहचान बनने में देर नहीं लगती। 
delicious-indian-food

 4. वर्कर्स का चयन -

आपकी नाश्ते की शॉप में यदि लोगों के बैठने की व्यवस्था करते हैं तो आपको अधिक वर्कर्स की जरूरत पड़ेगी यदि आपका इंतज़ाम इस प्रकार का है कि वहां लोग खड़े खड़े खाते हैं, तो मुख्यतः डिश बनाने वाले मिस्त्री के साथ हेल्पर रखने से काम चल जायेगा। अगर बड़ी शॉप है तो  कुक, सफाई कर्मचारी, वेटर मिलाकर आपको कम से कम  4  लोगों की जरूरत पड़ सकती है। अनुभवी कर्मचारियों को प्राथमिकता देने पर आपका काम आसान हो जायेगा। 



5. नाश्ते की क्वालिटी और स्वच्छता -

आपको नाश्ता बनाने के लिए अच्छी गुणवत्ता वाला कच्चा माल (मैदा, आटा, ब्रेड, सब्जी, मसाले आदि) ही इस्तेमाल करना चाहिए। तभी स्वाद अच्छा बन पायेगा और आपके ग्राहक स्थाई बन पायेंगे। नाश्ते का ताज़ा और गर्म होना आवश्यक है, ठंडा आइटम कोई ग्राहक पसंद नहीं करता। इसके लिए दुकान पर ही गर्म नाश्ता बनता हुआ दिखने से ग्राहक आकर्षित होता है। 

   खाने के स्वाद के साथ-साथ अपने नाश्ता सेंटर में हाइजीन का पूरा ध्यान रखना भी जरूरी होता है। आपके हर एक कर्मचारी, नाश्ता बनाने वाले से लेकर सप्लाई करने वाले तक साफ़ सुथरे रहते हुए स्वच्छता के नियमों का पालन करेंगे तभी ग्राहक आपकी दुकान में दोबारा आना पसंद करेंगे।  
jalebi


   अगर आपके नाश्ते की दुकान में ग्राहक के बैठने की व्यवस्था नहीं है और लोग खड़े खड़े खाते हैं तो वहां पीने के पानी की उचित व्यवस्था करें और प्लेट की जगह पत्तों से निर्मित दोने में खाद्य सामग्री देने के साथ ही डस्टबिन की उचित व्यवस्था करें। इससे स्वच्छता बनाये रखने में मदद मिलेगी। 


6. रेट  और प्रॉफिट का गणित -

नाश्ते का रेट रिज़नेबल रखते हुए बिक्री बढ़ाने पर अपना फोकस रखें। काम आगे बढ़ने पर अपने नाश्ता सेंटर में कच्चा माल प्राप्त करने के लिए होलसेलर से सम्पर्क करें जिससे आपको थोक रेट में अच्छा माल प्राप्त हो सके।  तभी आप कम दाम में अच्छी गुणवत्ता वाला नाश्ता अपने ग्राहकों को दे पाएंगे। 

    अपना बिज़नेस जमाने के लिए आपके नाश्ते का रेट प्रतियोगियों की तुलना में कम होना चाहिए। अगर आप अपने नाश्ते के आइटम का रेट कम रखते है तो ज्यादा बिक्री होगी और आपका प्रॉफिट बढ़ता जायेगा। 

   आपके यहां काम करने वाले वर्कर्स की संख्या पर भी आपका मुनाफा निर्भर करेगा। छोटे बजट में काम शुरू करने वाले के लिए प्रारम्भिक स्तर पर वर्कर की संख्या कम रखते हुए स्वयं को ही अधिक जिम्मेदारी उठानी पड़ेगी तभी सफलता निश्चित हो सकेगी।

    किसी दुकान को प्रसिद्ध होने और बढ़िया सेल हासिल करने में समय लगता है तब तक धैर्य पूर्वक अपने बिज़नेस को निरंतर बेहतर करने का प्रयास करते रहें। कुछ वर्षों बाद यह बिज़नेस आपको एक शानदार इनकम देने लगता है।  प्रॉफिट के गणित को इस उदाहरण से समझ सकते हैं -

    रायपुर के हृदयस्थल, जयस्तंभ चौक में  वर्षों से पोहे का ठेला लगाने वाले साहूजी के अनुसार वे प्रतिदिन 20 किलो पोहा बनाते हैं। 20/- रूपये प्रति प्लेट के हिसाब से वे करीब 400 प्लेट पोहा सुबह 6 से 10 बजे तक सेल कर लेते हैं। इस प्रकार उनकी प्रतिदिन की बिक्री 8 -10 हजार रूपये तक हो जाती है और वे हर महीने 2 लाख रूपये तक कमा लेते हैं। 


 also read -

How to start PG business-हॉस्टल या पीजी कैसे खोलें 

Bollywood film business-फिल्म से कमाई कैसे होती है 

Habits of unsuccessful people-असफल लोगों की आदतें 


samosa



7. ब्रेकफास्ट शॉप बिजनेस का स्कोप -


खान-पान से जुड़े इस बिजनेस की मांग क्वालिटी, कीमत और स्वाद सही रखने पर लम्बे समय तक बनी रह सकती है। इसमें सफल होने पर आगे चलकर  इसे एक श्रृंखला के रूप में भी खोल सकते हैं। पहले अपने शहर में इसकी शाखाएं खोलें बाद में इसकी सफलता को देखते हुए हो सकता है लोग आपसे इसकी फ्रेंचाइजी की मांग करने लगें।

   आशा है ये आर्टिकल "Breakfast Business- नाश्ते के बिज़नेस में 10 हजार से लाखों कमाएं " आपको उपयोगी लगा होगा, इसे अपने मित्रों तक शेयर कर सकते हैं। अपने सवाल और सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखें। ऐसी ही अन्य उपयोगी जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विज़िट करते रहें। 

also read -

How to become a successful businessman-सफल व्यवसायी कैसे बनें 

Goods transport business-ट्रांसपोर्ट बिज़नेस कैसे शुरू करें 

Technical analysis in share market-टेक्निकल एनालिसिस क्या है 




No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad