Rejection and How to Handle it-रिजेक्शन पर काबू कैसे पाएं - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Wednesday, April 29, 2020

Rejection and How to Handle it-रिजेक्शन पर काबू कैसे पाएं

Rejection and How to Handle it -रिजेक्शन पर काबू कैसे पाएं 

सफल होना कौन नहीं चाहता, हम सभी सफलता के लिए निरंतर प्रयासरत होते हैं। परन्तु सफलता या स्वीकृति के पहले   हमारा सामना अस्वीकृति या रिजेक्शन (Rejection) से होता है। इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन आपको अस्वीकार कर रहा है। स्वाभाविक रूप से अस्वीकृति दर्द देती है, हालाँकि यह अनिवार्य है। वास्तव में स्वीकृति और अस्वीकृति एक ही सिक्के के दो पहलू हैं, परन्तु आप परेशान हो जाते हैं। 

rejection-pose
     अनुसंधान इस बात की पुष्टि करता है कि जब लोग रिजेक्ट हो जाते हैं, तो वे स्वयं को चिंतित, ईर्ष्यालु और अकेलापन से पीड़ित महसूस करते हैं। मनोचिकित्सक कहते हैं कि जब हम रिजेक्शन या अस्वीकृति को अपने आत्म-मूल्य से जोड़ते हैं तो हम और भी बदतर महसूस करते हैं, यह रिजेक्शन को देखने का गलत तरीका है। हम सब इसे समझते हैं, लेकिन फिर भी हर बार ऐसा होता है।  

     रिजेक्शन का क्षेत्र बड़ा व्यापक है यह किसी लिमिट को नहीं जानता।  सामाजिक,पारिवारिक, रोमांटिक और करियर या नौकरी की स्थितियों पर यह समान रूप से आक्रमण करता है। रिजेक्शन मिलने पर व्यक्ति सोचता है कि वह किसी तरह से मूल्यवान नहीं हैं। ऐसा सोचने पर उसमें हीनता की भावना आ सकती है। 

     लेकिन भले ही यह दर्दनाक हो, अस्वीकृति वास्तव में आपको लाभ दे सकती है। रिजेक्ट होने से लचीलापन पैदा हो सकता है और आपको भविष्य की असफलताओं के बारे में जानने और सीखने में मदद मिलती है। इससे लाभ प्राप्त करने के लिए आपको सही तरीके से अस्वीकृति से निपटना होगा। विशेषज्ञों के अनुसार किसी भी सामान्य परिदृश्य में अस्वीकृति से निपटने के 5 तरीके यहां दिए गए हैं।
rejected

रिजेक्शन पर काबू कैसे पाएं (Rejection and How to Handle it) 


1.  रिजेक्शन से घबराने की जरूरत नहीं है -


अस्वीकृति से भयभीत होने की जगह यह सोचिये कि इस घटना से मुझे अपने में सुधार का एक अवसर मिला है। जब रिजेक्शन मिले तो उसका अफ़सोस करने से बचें और परिस्थिति का विश्लेषण करके यह जानने की कोशिश करें कि आपकी त्रुटि क्या थी और सोचें कि आगे क्या सुधार किया जा सकता है। 


    वास्तव में जो व्यक्ति जितना अधिक सफल या बड़े पद में होता है उसने उतने ही अधिक रिजेक्शन का सामना किया होता है। इसे खेल, कला, बिज़नेस और राजनीति आदि में सफल लोगों की जीवनी को देखकर समझा जा सकता है। जितना अधिक रिजेक्शन उतनी अधिक सफलता, इन दोनों का आपस में घनिष्ट संबंध है। 

    मान लीजिये किसी विधानसभा क्षेत्र में 1 लाख और लोकसभा क्षेत्र में 10 लाख लोग वोट करने जाते हैं। इनमें सफल उम्मीदवारों को यदि 50% वोट भी मिलते हैं तब भी विधायक को 50 हजार लोगों ने और सांसद को 5 लाख लोगों ने रिजेक्ट किया (अर्थात वोटर्स ने इनके विरुद्ध दूसरी पार्टी को वोट दिया)। इस प्रकार सांसद को हजार नहीं बल्कि लाखों रिजेक्शन मिले। इसे किसी भी देश के प्रधानमंत्री या प्रेसीडेंट के चुनाव परिप्रेक्ष्य में देखेंगे तो उन्हें रिजेक्ट करने वालों की संख्या करोड़ों में होगी। 

   इसलिए अधिक रिजेक्शन भी मिले तो डरने की जरूरत नहीं है। चाहे कोई बीमा एजेंट हो या सेल्समैन। यदि इनकी सफलता की दर 20% भी माने तो इनमें से जो अधिक से अधिक लोगों को एप्रोच करेगा उसको रिजेक्शन भी उतना ही अधिक मिलेगा परन्तु सबसे ज्यादा सफल भी वही होगा। 


2 अपने में हीन भाव न आने दें -


जब आपको अस्वीकृति का सामना करना पड़ता है तो आपके आस पास के ज्यादातर लोग आपकी आलोचना करने लगते हैं।  ऐसे में खुद को नीचे खींचना आसान हो जाता है। आप सोचने लगते हैं कि मैं इतना आकर्षक या स्मार्ट नहीं हूँ या शायद मेरी किस्मत ही खराब है।  आप अपने जीवन को ही असफल मानने को तैयार हो जाते हैं और अपनी कमियों को रिजेक्शन का कारण कहते हैं। 
man-covering-his-face


   जब आप इस प्रकार के नकारात्मक विचारों से घिरने लगें तो सतर्क हो जाइये और अपने दिमाग में इसकी जगह सकारात्मक विचार लाइये। स्वयं से कहिये कि स्थिति अभी मेरे नियंत्रण में है और अभी करने को बहुत कुछ बचा हुआ है। इस तरह आप अपने भीतर के आलोचक को चुप  कर सकते हैं। 


     यदि कोई कंपनी आपको नौकरी के लिए ठुकराती है, तो खुद को अक्षम घोषित करने की कोई वजह नहीं बनती है। यदि आप किसी से प्रेम निवेदन करते हैं और अस्वीकृत हो जाते हैं, तो इसका अर्थ ये नहीं होता कि आप किसी के काबिल नहीं हैं। अपने आत्म-मूल्य को आप अन्य लोगों की राय पर निर्भर न होने दें। यह सिर्फ उसका नजरिया है और वह आपके बारे में कुछ सोचता है, परन्तु इसका मतलब यह नहीं है कि वही सच है।


3. किसी दोस्त या प्रियजन की मदद लें - 


रिजेक्शन की स्थिति में यह देखना होता है कि यह क्यों हुआ और इससे उबरने और आगे बढ़ने के लिए आप क्या कर सकते हैं। कई बार ऐसी स्थिति होती है कि निराशा हम पर हावी हो जाती है और हम कोई मार्ग निकलने में स्वयं को असमर्थ महसूस करते हैं। ऐसा हमें बहुत बुरा लगने के कारण होता है जबकि वास्तव में इसे सामान्य वे में लेना चाहिए।

    ऐसी समय में अपने किसी दोस्त या परिवार के सदस्य से बात करने पर स्थिति को तटस्थ होकर देखने में मदद मिल सकती है। वह आपको अपने अनुभव के आधार पर कोई सलाह दे सकता है जिस आधार पर आप एक नई दिशा में सोचते हुए किसी योजना की शुरुआत कर सकते हैं और दुखद भावनाओं के जाल से निकल कर आगे बढ़ सकते हैं।
love-rejection

4. रिजेक्शन स्थायी नहीं हैं -

जब आपको अस्वीकार कर दिया जाता है तो आप यह सोचना शुरू कर सकते हैं कि यह स्थायी है और आप जीवन के इस क्षेत्र में हमेशा असफल होते हैं इसलिए रिजेक्ट कर दिए जाते हैं। इस तरह के विनाशकारी विचार और मन के बहकावे में न आएं।  सच्चाई यह है कि यह सिर्फ एक अस्थायी स्थिति है और यह आपके जीवन के बाकी समय तक नहीं चलेगी, यदि आप कदम-दर-कदम आगे बढ़ते रहें और सीखते रहें। 

    खुद को याद दिलाएँ कि यहां कुछ भी स्थायी नहीं है, असफलता भी। यह सोचना गलत है कि कोई चोट हमेशा रहेगी। अगर आप आज की तारीख में किसी नौकरी के लिए इंटरव्यू में रिजेक्ट कर दिए गए हैं तो इसका मतलब यह नहीं है कि आप अगले महीने फिर इसी तरह की स्थिति में रिजेक्ट कर दिए जाएंगे।

also read -

7 ways to boost your self confidence-आत्मविश्वास बढ़ाने के 7 तरीके

Lahsun ke fayde aur upyog- Benefits of Garlic 

Make money online with Google-घर बैठे blogging से पैसा कमाएं 
get-over-rejection

5.  रचनात्मक बनें और सीखने पर ध्यान केंद्रित करें -

अस्वीकृति के बाद सबसे पहले आपको यह देखना है कि इस घटना से क्या सीख सकते हैं? और अगली बार मैं क्या अलग कर सकता हूं? रिजेक्ट कर दिया जाना जीवन का एक हिस्सा है, जहां आप अपने आराम क्षेत्र से बाहर जाते हैं। 

    अस्वीकृति इस बात का सबूत है कि आप जीवन को पूरी तरह से जी रहे हैं और आपका पार्टिसिपेशन अच्छा है। स्वाभाविक रूप से यहां रिजेक्शन भी मिलेगा और इसके लिए तैयार रहना आपके मानसिक रूप से मजबूत होने की निशानी है। 


   इसलिए भविष्य में सफलता की संभावना बढ़ाने और अस्वीकृति के जोखिम को कम करने के लिए खुद को ईमानदारी के साथ तैयार करें। अगर आप किसी जॉब इंटरव्यू में रिजेक्ट होते हैं तो अपने साक्षात्कार कौशल में सुधार के लिए काम कर सकते हैं। 

   इस प्रकार रिजेक्शन एक अच्छा शिक्षक हो सकता है जो आपको और अधिक ज्ञान प्राप्त करने के लिए प्रेरित करता है। आगे बढ़ने के अवसर के रूप में इसका उपयोग करें।

     आशा है ये आर्टिकल "Rejection and How to Handle it-रिजेक्शन पर काबू कैसे पाएं "आपको रिजेक्शन की पूरी जानकारी देने में सफल सिद्ध होगा। इसे अपने मित्रों एवं परिवार के अन्य सदस्यों से शेयर कर सकते हैं। अपने सवाल एवं सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखें। ऐसी ही और भी उपयोगी जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विज़िट करते रहें। 

also read -

How to stay strong in tough time-कठिन समय में क्या करें 

How to defeat addiction-नशा कैसे छोड़ें

Top 10 benefits of Basil leaves-तुलसी के 10 लाभ 


  

No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad