Benefits of Curry Leaves- मीठा नीम (Kadi Patta) के शानदार फायदे - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Wednesday, February 5, 2020

Benefits of Curry Leaves- मीठा नीम (Kadi Patta) के शानदार फायदे


Benefits of Curry Leaves- मीठा नीम (Kadi Patta) के शानदार फायदे 

मीठा नीम (Meetha Neem) जिसे कढ़ी पत्ता (Kadi Patta) या करी पत्ता (Curry Leaf) भी कहते हैं, इसके बहुत से शानदार स्वास्थ्य लाभ हैं।इसे भोजन में शामिल करने से न केवल भोजन के स्वाद और सुगंध में वृद्धि होती है, बल्कि उसका पोषण मूल्य भी बढ़ जाता है। भारत में रसेदार व्यंजनों में खुशबू और स्वाद के लिए तड़के में इसका प्रयोग बहुतायत में किया जाता है। कढ़ी बनाते समय भी इसे उपयोग किया जाता है, जिससे कढ़ी का स्वाद बढ़ जाता है। 

meetha-neem

   सब्जी, दाल आदि में प्रयोग करने के अलावा इसकी चटनी भी बनाई जाती है।इसकी ताजा पत्तियों में एक अलग ही सुगंध होती है, इस ख़ुश्बूदार पौधे में इतनी तीव्र गंध होती है कि इसकी पत्तियां तोड़ते समय इसकी सुगंध उँगलियों में समा जाती है। इसकी पत्तियां फ्रिज में या बाहर रखने पर इसकी सुगंध कम हो जाती है। इसे मीठा नीम कहा जरूर जाता है लेकिन नीम के पेड़ से इसका कोई संबंध नहीं है, ये दोनों अलग प्रजाति के पेड़ हैं। 

     मीठा नीम का पेड़ छोटा होता है, इसकी ऊंचाई 2 से 4 मीटर  होती है। मीठा नीम, मूल रूप से भारत का पेड़ है। इसके फूल सफ़ेद रंग के छोटे और ख़ुशबूदार होते हैं। इसमें काले रंग के छोटे फल लगते है, जो इसके पेड़ के आसपास गिरकर नए पौधों को जन्म देते हैं। इसके फलों को नहीं खाया जाता केवल पत्तियां काम में लाई जाती हैं या पत्तियों से बने पाउडर का उपयोग विभिन्न व्यंजनों में किया जाता है। 

मीठा नीम के फायदे (Benefits of Curry Leaves)-


कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, कैल्शियम, फॉस्फोरस, लोहा, मैग्नीशियम, जस्ता, मल्टी विटामिन और फ्लेवोनोइड जैसे पोषक तत्वों की उपस्थिति के कारण मीठा नीम स्वास्थ्य के लिए अत्यंत लाभकारी है। मीठा नीम फास्फोरस में समृद्ध होता है। फास्फोरस का उपयोग शरीर में कोशिकाओं और ऊतकों की वृद्धि और मरम्मत के लिए किया जाता है।
sweet-neem



   यह गुर्दे को साफ करने में मदद करता है। इसका उपयोग हृदय की कार्यप्रणाली को सामान्य बनाए रखता है और मांसपेशियों की ऐंठन को कम करता है। इसका उपयोग दुनिया भर में एनीमिया, मधुमेह, अपच, मोटापा, गुर्दे की बीमारियों के साथ बालों और त्वचा की समस्याओं के उपचार में किया जाता है। मीठा नीम के फायदे इस प्रकार हैं - 


1. पेट के लिए फायदेमंद -

मीठा नीम प्राकृतिक उत्तेजक होने के कारण यह भूख को बढ़ाता है।इसकी पत्तियों में फाइबर की उपस्थिति, पेट रोगों और आंतों की बीमारियों के इलाज में फायदेमंद साबित हुई है। कढ़ी पत्ता के डाइजेस्टिव, एंटीमैटिक और एंटी-डायसेन्टिक गुण न केवल पाचन में सहायक होते हैं, बल्कि कब्ज, दस्त, पेचिश, बवासीर, मतली आदि से बचाव करते हैं।

    दस्त लगने पर या पाचन संबंधी समस्या होने पर मीठा नीम के पत्ते को पीसकर या इसके पाउडर को छाछ में मिलाकर पिएं। यह पेट की गड़बड़ी को शांत करके पेट संबंधी समस्याओं को दूर करने में सहायक होगा। 


2. एनीमिया से बचाव -

मीठा नीम, एनीमिया से बचाव करता है। आयरन और फॉलिक एसिड का  अच्छा  स्त्रोत होने के कारण यह रक्त में आयरन की कमी दूर करके एनीमिया से बचाता है। इसके लिए नियमित रूप से मीठा नीम और खजूर खाने से लाभ होगा।
sweet-neem-leaves



3. त्वचा के लिए फायदेमंद -

किसी भी तरह की त्वचा संबंधी समस्याओं में मीठा नीम फायदेमंद है। एंटी बैक्टीरियल होने के कारण मुहांसे दूर करने के लिए इसका पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाएं और प्रतिदिन मीठा नीम का सेवन करें। त्वचा के धब्बे, फोड़े  फुंसियों और जहरीले कीड़े के काटने ​​पर मीठे नीम के पेस्ट का प्रयोग करने से दर्द कम होकर जल्द राहत मिलती है। 

    चमकती दमकती त्वचा के लिए मीठे नीम के पत्ते को बारीक पीसकर उसमें थोड़ी हल्दी मिलाकर इस पेस्ट को त्वचा पर कुछ दिनों तक लगाने से त्वचा साफ़ होकर निखर जाती है। 



4. बालों के लिए उपयोगी -

बालों की समस्या से अधिकतर लोग परेशान रहते हैं। मीठा नीम के पत्ते बालों को स्वस्थ रखने में मदद करते हैं। इसकी पत्तियों को खाने से बालों की जड़ों को मजबूत करने में मदद मिलती है साथ ही ये बालों को असमय सफ़ेद होने से बचाते हैं। बालों के स्वास्थ्य में शीघ्र सुधार के लिए इसका बाहरी अनुप्रयोग किया जा सकता है। 

      इसके लिए 1 लीटर नारियल तेल में मीठा नीम के 30-40 पत्ते डालकर कुछ देर उबालें। ठंडा होने पर इस तेल को छानकर बोतल में रख लें। स्नान से पहले यह तेल सिर पर लगाकर हल्की मालिश करें। आधे घंटे बाद बालों को किसी हर्बल शैम्पू से धोएं। सप्ताह में एक या दो बार इस प्रयोग को करें
sweet-neem



5. वजन घटाने में उपयोगी -

मीठा नीम की पत्तियां कच्ची खाई जाएँ या इसके रस का प्रयोग किया जाए तो यह शरीर को शुद्ध करने, खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने और अतिरिक्त वसा को जलाने का कार्य करता है। नियमित रूप से इसे खाने पर आशाजनक परिणाम दिखाई देते हैं।


6. दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए -

मीठा नीम में कैल्शियम काफी मात्रा में पाया जाता है। हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार के लिए कैल्शियम की उपयोगिता व्यापक रूप से जानी  जाती है। मीठा नीम का सेवन दांतों और हड्डियों को मजबूत बनाने और ऑस्टियोपोरोसिस जैसी बीमारियों को रोकने के लिए प्रभावी है।

    मीठा नीम की पतली टहनियों का इस्तेमाल दांतों की सफाई के लिए दातून के रूप में किया जा सकता है। इसका उपयोग हानिकारक बैक्टीरिया को खत्म करके दांतों और मसूड़ों को मजबूत बनाता है। एंटी-फंगल गुण के कारण इसका उपयोग सांस की दुर्गंध मिटाने और मसूड़ों की बीमारी से लड़ने के लिए किया जाता है। हर्बल टूथपेस्ट और टूथ पाउडर में इसकी पत्तियों के पाउडर का उपयोग किया जाता है। 


7. मधुमेह के इलाज में -

मीठा नीम का 1 चम्मच पाउडर रोजाना सुबह, खाली पेट पानी के साथ लेने से रक्त शर्करा के स्तर को कम करके मधुमेह का स्वाभाविक रूप से नाश करने में चमत्कारिक प्रभाव दिखाता है।


also read -

1. Benefits of coconut water-नारियल पानी के फायदे

2. Hing ki jankari- हींग के फायदे नुकसान  

3. Depression and how to control it-डिप्रेशन और उसका इलाज 
rasam-dish-with-curry-leaves



8. लीवर को स्वस्थ करता है - 

स्वस्थ रहने के लिए लीवर का सही तरीके से काम करना जरुरी होता है। मीठा नीम, लीवर को सशक्त बनाकर इन्फेक्शन से बचाता है। इसके अलावा यह हेपेटाइटिस, सिरोसिस आदि कई बीमारियों से लीवर की रक्षा करता है।


9. आँखों को स्वस्थ रखने में -

आँखों के लिए आवश्यक विटामिन A, मीठा नीम में पर्याप्त मात्रा में होता है। विटामिन A आँखों को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसकी कमी से आँखों में बहुत सी परेशानियां हो सकती है और रतोंधी नामक बीमारी हो सकती है। 

   इसके औषधीय गुणों का लाभ उठाने और बेहतर स्वास्थ्य प्राप्त करने के लिए इसे अपने व्यंजनों में शामिल करें। इसकी चटनी इस प्रकार बना सकते हैं - 


मीठा नीम पत्ते की चटनी

आवश्यक सामग्री - 

30 -40 मीठा नीम के पत्ते, 4-5 मध्यम आकार के टमाटर बारीक कटे हुए, आधा कप धनिया बारीक कटा हुआ, 2 हरी मिर्च बारीक कटी हुई, आधा चम्मच जीरा, आधा चम्मच हल्दी पाउडर, स्वादानुसार काला नमक व चम्मच शक़्कर या गुड़ पाउडर। 

बनाने की विधि -

कढ़ाही में तेल डाल कर गरम करके उसमें जीरा और हरी मिर्च डालकर कड़कने दें, फिर इसमें शेष सभी सामग्री- मीठा नीम, टमाटर, धनिया पत्ती और हल्दी पाउडर के साथ नमक और गुड़ या शक़्कर मिलाएं। इसे धीमी आंच पर 10 मिनट तक पकाएं। फिर इसे ठंडा करके अच्छे से मिक्स कर लें, आपकी स्वादिष्ट चटनी तैयार है। 


मीठा नीम की चाय  -

इसके लिए 1 कप उबलते पानी में 10-15 करी पत्ते धोकर डालें। थोड़ी देर बाद ठंडा होने पर इसे छान लें और इसमें 1 चम्मच शहद और नींबू के रस की कुछ बूंदें मिलाकर पियें। 

     आशा है ये आर्टिकल "Benefits of Curry Leaves- मीठा नीम (Kadi Patta) के शानदार फायदे" आपको उपयोगी लगा होगा। इसे अपने परिवार एवं मित्रों से शेयर कर सकते हैं, जिससे वे भी इसका लाभ उठा सकें। अपने सवाल एवं सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखें। ऐसी ही अन्य प्राकृतिक चीज़ों से स्वास्थ्य लाभ प्राप्त करने संबंधी जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विज़िट करते रहें। 

also read-

1. Mango benefits and side effects-आम के फायदे और नुकसान 

2. Home remedies for high BP-बीपी ठीक करें बिना दवा के

3. Dubbing artist kaise bane-डबिंग आर्टिस्ट कैसे बनें 





No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad