Bollywood Actresses and Underworld-हीरोइनों का अंडरवर्ल्ड से संबंध - sure success hindi

success comes from knowledge

Breaking

Post Top Ad

Wednesday, September 23, 2020

Bollywood Actresses and Underworld-हीरोइनों का अंडरवर्ल्ड से संबंध

Bollywood Actresses and Underworld-हीरोइनों का अंडरवर्ल्ड से संबंध  

बॉलीवुड की ग्लैमरस दुनिया और अंडरवर्ल्ड का गहरा संबंध रहा है। बॉलीवुड में ड्रग्स सप्लाई से लेकर फिल्म निर्माताओं से अवैध वसूली में अंडरवर्ल्ड का हाथ रहा है। पैसे देने से इंकार करने वाले फिल्म निर्माताओं पर हमले भी होते रहे हैं।  साथ ही करोड़ों की लागत से बनने वाली फिल्मों में अंडरवर्ल्ड का पैसा लगना कोई रहस्य की बात नहीं है। 

bollywood actress and underworld

   फिल्मों में पैसे लगाने के साथ फिल्म निर्माण में भी अंडरवर्ल्ड के डॉन दखल देते रहे हैं। कई बार ये लोग अपनी पसंद की एक्ट्रेस को फिल्म में लेने का दबाव निर्माताओं पर बनाते हैं। इस कारण फिल्मों में काम मिलने के लालच में कुछ बॉलीवुड अभिनेत्रियाँ इनसे आकर्षित हो जाती हैं। शराब और शबाब के शौक़ीन अंडरवर्ल्ड डॉन्स खुद भी इन हीरोइनों की खूबसूरती पर फिदा होकर इनसे गठजोड़ बना लेते हैं।  आइये जानते हैं ऐसी ही 5 अभिनेत्रियों के बारे में जिनका संबंध अंडरवर्ल्ड डॉन से रहा है। 


बॉलीवुड अभिनेत्रियों का अंडरवर्ल्ड कनेक्शन


 1. हाजी मस्तान और सोना


बॉलीवुड अभिनेत्री से संबंध बनाने वाले अंडरवर्ल्ड के पहले डॉन का नाम था हाजी मस्तान। इसका जन्म तमिलनाडु में अत्यंत गरीब घर में हुआ था। गरीबी से परेशान होकर इसके पिता ने बॉम्बे आकर एक छोटी सी साइकिल रिपेयर और पंक्चर बनाने की दुकान खोल ली थी।  उस समय मस्तान हैदर मिर्जा (यह  हाजी मस्तान का असली नाम था) 8 वर्ष का था। 


    उस दुकान में मस्तान भी अपने पिता के काम में मदद करता है और सड़क से गुजरने वाली बड़ी बड़ी गाड़ियों को देखकर उनके सपने देखने लगता है। पर वास्तविक हालात बहुत बुरे थे, पंक्चर बनाकर जीवन चलाना भी कठिन था। 10 साल तक साइकिल रिपेयर का काम करने के बाद भी कमाई कुछ ख़ास नहीं थी। तभी मस्तान अपने एक मित्र की सलाह पर मुंबई बंदरगाह में कुली का काम शुरू कर देता है तब वह 18 साल का था।  


    पचास के दशक का ये वह दौर था जब भारत में सोने (Gold) की स्मगलिंग होती थी। जहाज़ में माल चढ़ाने उतारने का काम करते हुए मस्तान सोने के कुछ बिस्किट कस्टम की निगाह से बचाकर बाहर निकालने में स्मगलर्स की मदद कर दिया करता था। इसी बीच मस्तान का सम्पर्क अरब के एक शेख से हुआ जो सोने का बड़ा स्मगलर था। 


  एक घटना में शेख की गिरफ्तारी के बाद मस्तान ने उसका सोना सुरक्षित रखा था। जिसके बदले में शेख ने न केवल मस्तान को उस सोने का आधा हिस्सा दिया बल्कि तस्करी के गुर भी सिखाये। इस तरह मस्तान ने काम शुरू किया और बाद के दिनों में तस्करी का अपना साम्राज्य खड़ा कर दिया। 


   उन दिनों करीम लाला और वरदराजन भी इसके समकालीन थे जिनका काम शराब और जुएं के अड्डे संचालित करने का था। परन्तु मस्तान का फोकस गोल्ड, सिल्वर, इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और घड़ियों की स्मगलिंग में था। वह कस्टम अधिकारियों का महंगे तोहफे दिया करता था और अगर कोई कस्टम ऑफिसर ईमानदार हुआ और उसकी बात नहीं मानता था तो वह अपनी राजनैतिक पहुंच का इस्तेमाल करते हुए उसका ट्रांसफर करवा देता था। 


     काले धंधे करने वाला हाजी मस्तान हमेशा सफ़ेद कपड़े पहना करता था और मर्सिडीज़ की सवारी किया करता था। अपने क्षेत्र के लोगों में रोबिन हुड की छवि वाले इस डॉन के जीवन पर आधारित फ़िल्में हैं - दीवार और वन्स अपॉन ए टाइम इन मुंबई। 


Sona-and-Haji-mastan

   हाजी मस्तान को फिल्मों का बहुत शौक था। वह फ़िल्मी कलाकारों से मिलना - जुलना पसंद करता था और फिल्मों को फाइनेंस भी किया करता था। एक बार किसी समारोह में उसने अभिनेत्री मधुबाला को देखा तो वह उन पर मोहित हो गया। वह मधुबाला से शादी करना चाहता था पर यह हो न सका। 


   इसी दौरान उसकी निगाह अभिनेत्री सोना पर पड़ी जो मधुबाला जितनी प्रसिद्ध तो न थी परन्तु दिखने में काफी हद तक मधुबाला जैसी लगती थी। सोना से मेल मुलाकात के बाद हाजी मस्तान ने उसकी कुछ फिल्मों को फाइनेंस भी किया परन्तु वे सफल न हो सकी। बाद में सोना ने हाजी मस्तान के शादी  प्रस्ताव को स्वीकार कर लिया और दोनों का निकाह हो गया। 


2. मंदाकिनी


बॉम्बे अंडरवर्ल्ड में हाजी मस्तान के बाद दाऊद इब्राहिम का दौर आया। मुंबई पुलिस कांस्टेबल के पुत्र दाऊद ने पुलिस में अपने सम्पर्कों का पूरा फायदा उठाया। पुलिस के किसी अभियान की सूचना उसे पहले ही मिल जाती थी। कहा जाता है कि अपने विरोधियों को निपटाने में भी उसकी यह नीति सफल रही। 


   हाजी मस्तान, ड्रग्स और हथियारों की तस्करी से बचता रहा परन्तु दाऊद के समय तस्करी के दायरे में ड्रग्स और हथियार भी शामिल हो गए साथ ही बॉलीवुड में माफिया गैंग का प्रभाव बढ़ता गया। भारत में बढ़ते दबाव को देखते हुए दाऊद इब्राहिम ने पकिस्तान और दुबई को अपना नया ठिकाना बना लिया और मुंबई में अपने गुर्गों के जरिये अपना धंधा संचालित करने लगा। 


    वर्ष 1985 में राज कपूर की फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली' रिलीज हुई थी। इस फिल्म में शोमैन राज कपूर ने एक नई अभिनेत्री को मंदाकिनी के नाम से प्रस्तुत किया जिसका असली नाम था -यास्मीन जोसेफ। मंदाकिनी का जन्म 30 जुलाई 1963 को यूपी के मेरठ में हुआ था। फिल्म सुपर हिट रही और बॉलीवुड में मंदाकिनी रातों रात छा गईं।  


   फिल्म में सफ़ेद साड़ी पहनकर झरने में नहाते हुए मंदाकिनी का सीन बेहद चर्चित रहा और कई लोगों ने इसे अश्लील कहा। वैसे इस फिल्म के लिए फिल्मफेयर अवॉर्ड्स में मंदाकिनी को बेस्ट एक्ट्रेस का नॉमिनेशन भी मिला था। मंदाकिनी ने कुछ और फिल्मों में भी अभिनय किया लेकिन "राम तेरी गंगा मैली" जैसा दमदार रोल उसे दोबारा नहीं मिला सका।


Dawood-and-Mandakini

   90 के दशक में मंदाकिनी, फिल्मों के अलावा अपने अफेयर की खबरों को लेकर भी खूब सुर्खियों में रहीं।  उस समय मंदाकिनी का नाम अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के साथ जुड़ा था। ये भी कहा गया कि दाउद के कहने पर ही कई फिल्मों में मंदाकिनी को लिया गया था। 


    इस चर्चा को बल तब मिला जब मंदाकिनी और दाऊद की एक फोटो सामने आई जो शारजाह में एक क्रिकेट मैच के दौरान खीचीं गई थी। खबरें तो ये भी आईं कि दोनों ने शादी कर ली थी और उन्हें एक बेटा भी है। लेकिन मंदाकिनी ने हमेशा इस बात को खारिज किया। उन्होंने ये जरूर स्वीकार किया कि दाऊद से उनकी जान पहचान थी।


 3. अनीता अयूब


अनीता अयूब, एक पाकिस्तानी मॉडल एवं अभिनेत्री थी, इसने बॉलीवुड में भी काम किया था जिसमें देवआनंद निर्देशित फिल्म "प्यार का तराना" भी शामिल है। पकिस्तान में इसने टीवी सीरियल में भी काम किया, इसकी बहन अम्बर अयूब भी पाकिस्तानी अदाकारा रही है। 


Anita-ayub-and-Dawood

   मंदाकिनी के अलावा इस अभिनेत्री का नाम भी दाऊद के साथ जुड़ा। पाक मीडिया ने भी इस बात को स्वीकारा था कि अनीता अयूब, अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम के बहुत करीब थी।


  कहा जाता है कि बॉलीवुड फिल्म निर्माता जावेद सिद्दीकी ने जब अपनी फिल्म में इस अभिनेत्री को लेने से इनकार कर दिया तो दाऊद के लोगों ने सिद्दीकी को गोली मार दी।


4. मोनिका बेदी 


होशियारपुर, पंजाब में 1975 में जन्मी एक्ट्रेस मोनिका बेदी अपनी फिल्मों से ज्यादा दाऊद के दाहिने हाथ कहे जाने वाले अबू सलेम से प्यार के चलते चर्चा में रहीं। इसी प्यार के चलते उन्हें जेल तक जाना पड़ा। अबू सलेम के माध्यम से मोनिका को कुछ फ़िल्में मिलीं, उसकी शुरुवात तेलुगु की एक फिल्म से हुई।


    अबू सलेम ने मुंबई में अपने सफर की शुरुवात एक टैक्सी ड्राइवर के रूप में की थी। बाद में वह रियल एस्टेट ब्रोकर का काम करने लगा। इसी दौरान उसका सम्पर्क दाऊद इब्राहिम के भाई अनीस इब्राहिम से हुआ। अनीस ने ही अबू सलेम को दाऊद से मिलवाया था। 


    दाऊद को अबू सलेम काम का आदमी लगा फिर दाऊद के इशारे पर वह बॉलीवुड के लोगों और बड़े बिज़नेस मैन से वसूली करने लगा। उसकी दहशत से फ़िल्मी कलाकार उसकी पार्टियों में पहुंचने लगे और वसूली की रकम दाऊद तक पहुंचने लगी। 


Monica-and Abu-salem

    अबू सलेम ने मोनिका से शादी की और उसका नाम बदलकर फौज़िया रख दिया फिर भोपाल और हैदरबाद से पासपोर्ट हासिल करके लिस्बन, पुर्तगाल चले गए। बाद में दोनों को पुर्तगाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था और नवंबर 2003 में जाली यात्रा दस्तावेजों के लिए उन्हें 2 साल की जेल की सजा सुनाई गई थी। वहां की सजा पूरी होने के बाद, मोनिका और अबू सलेम को भारत में प्रत्यर्पित किया गया ताकि उनके यहां के आपराधिक मामलों पर सुनवाई की जा सके।  


also read -


Film kaise bnti hai-फिल्म कैसे बनती है 


Dubbing Artist Kaise bne-डबिंग आर्टिस्ट कैसे बनें 


Audition of Acting-ऑडिशन कहां होता है और कैसे दें 


5. ममता कुलकर्णी


ममता कुलकर्णी ने वर्ष 1992 में फिल्म 'तिरंगा' से बॉलीवुड में कदम रखा था। इसके बाद वे आशिक आवारा, करण अर्जुन, क्रांतिवीर, किस्मत और चाइना गेट जैसी फिल्मों में दिखाई दीं। इनमें बहुत सी फ़िल्में सफल रहीं, जिससे ममता स्टार बन चुकी थी। हालांकि, वे हमेशा विवादों में रहीं।  


    ममता कुलकर्णी सबसे पहले विवादों में तब आई थीं कि जब उन्होंने स्टारडस्ट मैग्जीन के लिए टॉपलेस फोटोशूट करवाया था। अंडरवर्ल्ड से उनके संबंध चर्चा में रहे। ऐसा कहा जाता है कि फिल्मों में भूमिकाएं पाने के लिए उन्होंने अंडरवर्ल्ड का इस्तेमाल किया।

Mamta-kulkarni-and-Vicky

 
 
  रिपोर्ट्स के मुताबिक जब ममता को "चाइना गेट" फिल्म से निकाला गया था तो अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन ने डायरेक्टर पर दबाव डाला था। इसके बाद फिल्म में उनकी वापसी हुई थी। इसके अलावा ममता कुलकर्णी की नजदीकियां ड्रग माफिया विक्की गोस्वामी से बढ़ने लगी थीं और फिर दोनों ने शादी भी कर ली । 


    2016 में ममता कुलकर्णी को केन्या एयरपोर्ट पर पति विक्की गोस्वामी के साथ ड्रग तस्करी के मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किया। विक्की के खिलाफ ड्रग डीलिंग के अलावा मनी लॉन्ड्रिंग के मामले दर्ज हैं।  


    ममता ने ड्रग डीलिंग में अपनी किसी भूमिका को हमेशा ही अफवाह बताया। ममता ने कहा था-  अब मै साध्वी बन गई हूँ और मेरा पहला प्‍यार ईश्‍वर है। 2013 में ममता कुलकर्णी ने अपनी किताब 'ऑटोबायोग्राफी ऑफ एन योगिनी' रिलीज की थी।


   आशा है ये आर्टिकल "Bollywood Actresses and Underworld- हीरोइनों का अंडरवर्ल्ड से संबंध" आपको उपयोगी लगा होगा। इसे अपने मित्रों तक शेयर कर सकते हैं। अपने सवाल और सुझाव कमेंट बॉक्स में लिखें। ऐसी ही और भी उपयोगी जानकारी के लिए इस वेबसाइट पर विज़िट करते रहें।   


also read -


Real Estate Knowledge-प्रॉपर्टी खरीदी में फ्रॉड से कैसे बचें 


7 Tips to Overcome Mobile Addiction-मोबाइल की लत से कैसे बचें 


Black Truth of Share Market-शेयर मार्केट का काला सच 


No comments:

Post a Comment

Post Bottom Ad